close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

नरसापुरम लोकसभा सीट: क्या BJP फिर से कमल खिलाने में होगी कामयाब

नरसापुरम लोकसभा सीट सीमा आंध्र में आती है. लोकसभा चुनाव 2019 के पहले चरण में 11 अप्रैल को मतदान हो चुका है. 2014 के लोकसभा चुनाव में इस सीट से भारतीय जनता पार्टी के गोकाराजु गंगा राजू को जीत मिली थी. दूसरे स्थान पर वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के वंका रविंद्रनाथ रहे थे.

नरसापुरम लोकसभा सीट: क्या BJP फिर से कमल खिलाने में होगी कामयाब
नरसापुरम में पहले चरण में 11 अप्रैल को मतदान हो चुका है.

हैदराबाद: नरसापुरम लोकसभा सीट सीमा आंध्र में आती है. लोकसभा चुनाव 2019 के पहले चरण में 11 अप्रैल को मतदान हो चुका है. 2014 के लोकसभा चुनाव में इस सीट से भारतीय जनता पार्टी के गोकाराजु गंगा राजू को जीत मिली थी. दूसरे स्थान पर वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के वंका रविंद्रनाथ रहे थे. कांग्रेस ने इस बार कानूमुरु बापीराजू को टिकट दिया है. वाईएसआर ने अपना प्रत्याशी बदल दिया है. पार्टी ने रघुराम कृष्णा राजू को मैदान में उतारा है. टीडीपी ने वेंकट शिवा राम राजू को टिकट दिया है.  

बात बीजेपी की करें तो 2014 में गोकाराजु गंगा राजू ने यहां पर कमल खिलाया था. हालांकि पार्टी ने 2019 में उनका टिकट काट दिया है. इस बार पार्टी ने मणिकायला राव पर दांव लगाया है. राव चंद्रबाबू नायडू सरकार में मंत्री थे. टीडीपी के एनडीए से अलग हो जाने के बाद उन्होंने कैबिनेट से इस्तीफा दे दिया था. नरसापुरम सीट पर कुल 13,25,143 मतदाता हैं. इनमें 6,52,668 पुरुष और 6,72,475 महिला मतदाता हैं. 

सीपीआई ने जीता था पहला लोकसभा चुनाव
नरसापुरम लोकसभा सीट पर शुरुआत में सीपीआई की गढ़ रही. देश का पहला आम चुनाव 1952 में हुआ जिसमें सीपीआई को जीत मिली. बाद में पार्टी ने 1957 का लोकसभा चुनाव भी जीत लिया. बाद में कांग्रेस ने अपना दबदबा बढ़ाया और लगातार 5 बार जीत हासिल की. 1982 में एनटी रामाराव ने टीडीपी की स्थापना की. 1984 के चुनाव में टीडीपी ने कांग्रेस से यह सीट छीन ली. फिर तो टीडीपी ने इस सीट को अपना गढ़ बना लिया. 1989, 1991 और 1996 में तेलुगू देशम पार्टी ने लगातार 4 बार जीत दर्ज की. 

1998 में कांग्रेस ने की वापसी
कांग्रेस ने 1998 के आम चुनाव में वापसी की. 1999 में आम चुनाव में भारतीय जनता पार्टी ने पहली बार यहां से चुनाव जीता. वेंकटा कृष्णम राजू संसद बने. 2004 के आम चुनाव में कांग्रेस ने फिर वापसी की. बीजेपी दूसरे स्थान पर रही. 2009 का चुनाव भी कांग्रेस ने जीत लिया. 2014 में बीजेपी के गोकाराजु गंगा राजू ने चुनाव जीता.