क्या नरसारावपेट में हैट्रिक लगा पाएगी टीडीपी, YSR कांग्रेस से जोरदार मुकाबला

नरसारावपेट लोकसभा सीट आंध्रप्रदेश की ऐसी सीट पर जहां पर टीडीपी की प्रतिष्ठा दांव पर है. पार्टी इस सीट पर अपनी हैट्रिक लगाना चाहती है. उधर, वाईएसआर कांग्रेस उसका गेम बिगाड़ने की कोशिश में है. 

क्या नरसारावपेट में हैट्रिक लगा पाएगी टीडीपी, YSR कांग्रेस से जोरदार मुकाबला
नरसारावपेट लोकसभा सीट आंध्रप्रदेश की ऐसी सीट पर जहां पर टीडीपी की प्रतिष्ठा दांव पर है.

हैदराबाद: नरसारावपेट लोकसभा सीट आंध्रप्रदेश की ऐसी सीट पर जहां पर टीडीपी की प्रतिष्ठा दांव पर है. पार्टी इस सीट पर अपनी हैट्रिक लगाना चाहती है. उधर, वाईएसआर कांग्रेस उसका गेम बिगाड़ने की कोशिश में है. 2014 के चुनाव में रायपति संबाशिव राव ने वाईएसआर कांग्रेस के अयोध्या रामी रेड्डी को चुनाव में शिकस्त दी थी लेकिन इस बार टीडीपी की राह आसान नहीं है. टीडीपी ने अपने मौजूदा सांसद पर फिर से दांव लगाया है. वाईएसआरसीपी ने नए चेहरे कृष्ण देवरायलु को मैदान में उतारा है. बीजेपी ने लक्ष्मी नारायण को कमल खिलाने की जिम्मेदारी दी है. कांग्रेस ने पक्काला सुरीबाबू कैंडिडेट को टिकट दिया है. जनसेना पार्टी ने कमल शायक को प्रत्याशी बनाया है. 

निर्दलीय उम्मीदवार ने जीता था पहला आम चुनाव
देश में पहला आम चुनाव 1952 में हुआ. पहले आम चुनाव में इस सीट पर निर्दलीय उम्मीदवर ने बाजी मारी थी. 1962 से कांग्रेस ने यहां पकड़ बनानी मजबूत की. 1962 के बाद से कांग्रेस ने यहां पांच बार लगातार जीत दर्ज की. 1982 में टीडीपी के अभ्युदय के बाद आंध्रप्रदेश की राजनीति में बदलाव आया और कांग्रेस की पकड़ कमजोर होने लगी. 1984 में टीडीपी पहली बार कांग्रेस से यह सीट छीनने में कामयाब रही. 

1989 में कांग्रेस ने फिर की वापसी
कांग्रेस ने 1984 के चुनाव में झटका खाने के बाद 1989 में जोरदार वापसी की. अगला चुनाव भी कांग्रेस ने जीता. 1996 में फिर से टीडीपी ने कांग्रेस को पटकनी देते हुए यह सीट जीती. 1998 में फिर से कांग्रेस वापस आई. 1999, 2004 में भी कांग्रेस के खाते में यह सीट आई. 2009 में टीडीपी ने किसी तरह से यह सीट जीतने में कामयाबी हासिल की. वहीं 2014 में टीडीपी नेता आरएस राव ने 35 हजार से ज्यादा वोटों के अंतर से जीत दर्ज की. 

 

2014 का चुनाव 
2014 में टीडीपी प्रत्याशी आरएस राव ने वाईआरएस कांग्रेस के उम्मीदवार को हराया और 35 हजार से ज्यादा वोटों के अंतर से सीट जीत ली. कांग्रेस तीसरे स्थान पर खिसक गई. संभाशिवा राव रायपति को करीब 6 लाख 32 हजार 464 वोट मिले थे जबकि दूसरे स्थान पर YSR कांग्रेस पार्टी के अयोध्या रमी रेड्डी अल्ला को 5 लाख 97 हजार 184 वोट मिले थे.