`भारत के विनिर्माण क्षेत्र में नया निवेश लगभग रूका हुआ है`

देश के विनिर्माण क्षेत्र में नया निवेश लगभग रूका हुआ है और इनमें से आधी कपंनियों ने संकेत दिया है कि उनकी वित्त वर्ष 2013-14 में बड़ा निवेश करने की कोई योजना नहीं है।

नई दिल्ली : देश के विनिर्माण क्षेत्र में नया निवेश लगभग रूका हुआ है और इनमें से आधी कपंनियों ने संकेत दिया है कि उनकी वित्त वर्ष 2013-14 में बड़ा निवेश करने की कोई योजना नहीं है।
पीडब्ल्यूसी और फिक्की के संयुक्त सर्वेक्षण के मुताबिक आर्थिक वृद्धि में नरमी और उत्पादन में कमी के कारण विनिर्माण कंपनियों सतर्कता बरत रही हैं।
पीडब्ल्यूसी इंडिया के विमल तन्ना ने कहा कि आर्थिक वृद्धि में नरमी के दौर में कोई अचरज की बात नहीं है कि कंपनियां सतर्कता बरत रही हैं। उन्होंने कहा कि विनिर्माण क्षेत्र हालांकि इस अवधि में कारोबारी माडेल और भविष्य की तैयारी में ताल-मेल बिठाने की कोशिश कर रही है।
सर्वेक्षण में कहा गया कि कंपनियां अपनी वृद्धि की संभावनाओं के बारे में आश्वस्त हैं और उन्हें उम्मीद है कि अगले 12 महीनों में मुनाफा बढ़ेगा।
कंपनियों का मानना है कि बाजार अपने न्यूनतम स्तर पर पहुंच चुका है ओर 60 प्रतिशत कंपनियों मोटे तौर पर उम्मीद करती हैं अगले साल उनकी आयत 10 प्रतिशत से ज्यादा बढ़ेगी और मुनाफे में बढ़ोतरी होगी।
सर्वेक्षण के दायरे में आयी 73 प्रतिशत कंपनियों का मानना है कि वैश्विक और घरेलू अर्थव्यवस्था में नरमी के कारण ग्राहकों की जरूरतें बदल गईं हैं। (एजेंसी)