ईरानी कप : मुंबई के खिलाफ शेष भारत को बढ़त

बल्लेबाजी के बादशाह सचिन तेंदुलकर ने शुक्रवार को यहां प्रथम श्रेणी मैचों में 81वां शतक जमाकर सुनील गावस्कर के भारतीय रिकार्ड की बराबरी की लेकिन उनकी इस बेहतरीन पारी के बावजूद शेष भारत ईरानी कप मैच में रणजी ट्राफी चैंपियन मुंबई पर पहली पारी में 117 रन की बढ़त हासिल करने में सफल रहा।

मुंबई : बल्लेबाजी के बादशाह सचिन तेंदुलकर ने शुक्रवार को यहां प्रथम श्रेणी मैचों में 81वां शतक जमाकर सुनील गावस्कर के भारतीय रिकार्ड की बराबरी की लेकिन उनकी इस बेहतरीन पारी के बावजूद शेष भारत ईरानी कप मैच में रणजी ट्राफी चैंपियन मुंबई पर पहली पारी में 117 रन की बढ़त हासिल करने में सफल रहा।
तेंदुलकर ने आखिर तक एक छोर संभाले रखा और नाबाद 140 रन बनाए। मुंबई की टीम हालांकि 409 रन बनाकर आउट हो गई। पहली पारी में 526 रन बनाने वाले शेष भारत की दूसरी पारी की शुरुआत अच्छी नहीं रही और उसने पहले ओवर में ही शिखर धवन का विकेट गंवा दिया। शेष भारत ने तीसरे दिन का खेल समाप्त होने तक एक विकेट पर 27 रन बनाए हैं और उसकी कुल बढ़त 144 रन हो गयी।
स्टंप उखड़ने के समय सलामी बल्लेबाज मुरली विजय 18 और नाइटवाचमैन एस श्रीसंत सात रन पर खेल रहे थे। शेष भारत भले ही पहली पारी में बढ़त हासिल करने में सफल रहा लेकिन तीसरे दिन का आकषर्ण तेंदुलकर का शतक रहा। यह उनका प्रथम श्रेणी मैचों में 81वां, ईरानी ट्राफी में दूसरा और मुंबई की तरफ से लगाया गया 20वां शतक है। उन्होंने गावस्कर के 81 शतक के भारतीय रिकार्ड की बराबरी करने के अलावा प्रथम श्रेणी मैचों में 25,000 रन भी पूरे किये। अब उनके नाम पर 25,036 रन दर्ज हैं।
वह गावस्कर के बाद इस मुकाम पर पहुंचने वाले दूसरे भारतीय बल्लेबाज हैं। मुंबई के नाइटवाचमैन श्रदुल ठाकुर के जल्दी आउट होने के कारण तेंदुलकर को दिन के दूसरे ओवर में ही बल्लेबाजी के लिये उतरना पड़ा। इसके बाद उन्होंने लांग आफ और कवर के बीच वाले क्षेत्र में कई खूबसूरत शाट लगाकर 303वें मैच में गावस्कर की बराबरी की।
मुंबई ने सुबह दो विकेट पर 155 रन से आगे खेलना शुरू किया। ईश्वर पांडे ने दिन के अपने पहले ओवर में ठाकुर को आउट कर दिया। तेंदुलकर ने इसी ओवर मिडआफ पर खूबसूरत चौका जड़कर अपनी पारी की शुरुआत की। श्रीसंत ने इस बीच उन पर लगातार शार्ट पिच गेंद फेंकी। उनकी इस तरह की एक गेंद को तेंदुलकर ने बैकफुट कवर ड्राइव से चार रन के लिए भेजकर अच्छा जवाब दिया। कल के अविजित बल्लेबाज अंजिक्य रहाणे (83) हालांकि हरभजन सिंह की गेंद पर एलबीडब्ल्यू आउट हो गए जिससे उनकी तेंदुलकर के साथ 73 रन की साझेदारी का अंत हुआ।
मुंबई ने 24 रन के अंदर तीन विकेट गंवाए। इनमें रहाणे के अलावा रोहित शर्मा (शून्य) और कप्तान अभिषेक नायर (1) का विकेट भी शामिल है। तेंदुलकर इस बीच अच्छी लय में बल्लेबाजी करते रहे। उन्होंने ओझा की लगातार गेंद पर चौका और छक्का जमाया और फिर हरभजन को भी कड़ा सबक सिखाया। इस बीच जब वह 92 रन पर थे तब ओझा ने उनके खिलाफ स्टंप आउट की जोरदार अपील की थी।
शेष भारत की तरफ से हरभजन सबसे सफल गेंदबाज रहे। उन्होंने 64 रन देकर तीन विकेट लिये। मिथुन, पांडे और ओझा को दो-दो विकेट मिले। शेष भारत की दूसरी पारी की शुरुआत हालांकि अच्छी नहीं रही तथा धवल कुलकर्णी ने पारी के पहले ओवर में ही धवन को आउट कर दिया। कुलकर्णी की शार्ट पिच गेंद को धवन ने पुल किया लेकिन नायर ने मिडविकेट पर अपने दायीं तरफ डाइव लगाकर उसे खूबसूरत कैच में तब्दील कर दिया। (एजेंसी)