स्पॉट फिक्सिंग: श्रीसंत के दोस्त समेत चार और गिरफ्तार

क्रिकेटर श्रीसंत के एक मित्र सहित चार और व्यक्तियों को यहां आईपीएल स्पॉट फिक्सिंग प्रकरण में गिरफ्तार कर लिया गया जबकि जांचकर्ताओं ने इस मामले में शामिल और सट्टेबाजों को पकड़ने के लिए छापेमारी की।

नई दिल्ली : क्रिकेटर श्रीसंत के एक मित्र सहित चार और व्यक्तियों को यहां आईपीएल स्पॉट फिक्सिंग प्रकरण में गिरफ्तार कर लिया गया जबकि जांचकर्ताओं ने इस मामले में शामिल और सट्टेबाजों को पकड़ने के लिए छापेमारी की।
इसके साथ ही गत 16 मई को इस प्रकरण के प्रकाश में आने के बाद से इसमें गिरफ्तार हुए व्यक्तियों की संख्या 26 हो गई है जिसमें श्रीसंत, अजित चंदीला और अंकित चव्हाण शामिल हैं। पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने आज बताया कि कथित रूप से क्रिकेटर श्रीसंत की गिरफ्तारी के बाद उसका पैसा और कुछ अन्य वस्तुएं छुपाने में मदद करने वाला उसका मित्र अभिषेक शुक्ला हाल में गिरफ्तार चार व्यक्तियों में शामिल है।
सूत्रों ने बताया कि जांच में कल शामिल होने वाले शुक्ला पर धारा 201 के तहत आरोप लगाये गए हैं और उसे वे वस्तुएं और श्रीसंत का पैसा बरामद करने के लिए मुम्बई ले जाया गया है जो उसने छुपाये थे। अधिकारी ने कहा, ‘‘श्रीसंत को कथित स्पॉट फिक्सिंग के लिए जो 10 लाख रुपये मिले थे उसमें से हमें पांच लाख रुपये का हिसाब किताब मिल गया है। शुक्ला ने कथित रूप से श्रीसंत और क्रिकेटर के मित्र जीजू जनार्दन का बाकी का पैसा छुपा दिया था।’’
अधिकारी ने कहा, ‘‘श्रीसंत की गिरफ्तारी के तत्काल बाद जीजू ने शुक्ला को फोन करके उसे श्रीसंत का कमरा साफ करने के लिए कहा था।’’ तीन अन्य गिरफ्तारियां राजस्थान रॉयल के अन्य खिलाड़ी चंदीला से संबंधित हैं जो कि पहले से ही पुलिस की हिरासत में है। इनकी गिरफ्तारियां बाउंसर भूपेंदर नागर के पुलिस के जाल में फंसने के बाद हुई हैं।
तीनों की पहचान बाउंसर विक्की चौधरी, दो कथित सट्टेबाज नितिन जैन और विनोद शर्मा के रूप में हुई है। विक्की चौधरी ने ही चंदीला का परिचय नितिन जैन और विनोद शर्मा से कराया था। शर्मा की प्रॉपटी डीलिंग कंपनी है जबकि जैन एक कारखाने का मालिक है जिसमें कंबल और तकिया बनाने में इस्तेमाल होने वाला सामान बनता है।
पुलिस ने बताया कि विक्की राजधानी में दो नाइट क्लब के मुख्य सुरक्षा अधिकारी नागर का मित्र है। वह नागर ही था जो चंदीला को विक्की के पास लेकर गया था। विक्की ने दो सट्टेबाजों की तरफ से सम्पर्क की इच्छा जतायी थी।
सट्टेबाजों ने नागर और विक्की के साथ चंदीला से जयपुर में मुलाकात की थी। यह मुलाकात मई के दूसरे सप्ताह में रांची में केकेआर और आरसीबी के बीच होने वाले एक मैच से पहले हुई थी।
पुलिस ने कहा कि सट्टेबाजों ने उससे पूछा कि मैच कौन जीतेगा और चंदीला ने उन्हें बताया कि केकेआर जीतेगा और अंतत: ऐसा ही हुआ। इससे संदेह उत्पन्न हुआ कि हो सकता है कि मैच फिक्स हो लेकिन दिल्ली पुलिस का कहना है कि उसके पास इसे साबित करने का कोई सबूत नहीं है। (एजेंसी)