close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

ग्लोबल वार्मिग से लड़ने में सहायक होंगी समुद्री अर्चिन!

कुछ समुद्री अर्चिन वायुमंडल से भारी मात्रा में कार्बन डाई आक्साइड सोख सकती हैं जिससे ग्लोबल वार्मिग से लड़ने में हमारी सहायता कर सकती हैं।

लंदन : कुछ समुद्री अर्चिन वायुमंडल से भारी मात्रा में कार्बन डाई आक्साइड सोख सकती हैं जिससे ग्लोबल वार्मिग से लड़ने में हमारी सहायता कर सकती हैं। हाल ही में एक खोज में यह बात सामने आई है। मनुष्य हर वर्ष औसतन 33.4 अरब टन कार्बन डाई आक्साइड का उत्सर्जन करता है जिसका लगभग 45 प्रतिशत हिस्सा वातावरण में बना रहता है। वास्तव में पेट्रोल से चलने वाली एक कार हर 4,000 किमी. पर एक टन कार्बन डाई आक्साइड का उत्सर्जन करती है।
न्यूकैसल से जारी एक बयान के अनुसार इस खोज से हम कार्बन को सोखकर उसका भंडारण कर वातावरण में कार्बन की मात्रा को कम कर सकने की क्षमता का विकास कर सकते हैं। इस समय वातावरण से कार्बन सोखकर उसे पाइपों की सहायता से धरती के भीतर मौजूद गहरे छिद्रों में धकेल देने के लिए कार्बन कैप्चर एंड स्टोरेज सिस्टम(सीसीएस) से संबंधित प्रारंभिक अध्ययनों पर काम चल रहा हैं ताकि वातावरण से कार्बन की मात्रा कम किया जा सके। समुद्री अर्चिन अत्यंत छोटी, गोलाकार और कांटेदार समुद्री जंतु है। (एजेंसी)