शनि के चंद्रमा डियोन पर ऑक्सीजन !

ग्रह विज्ञानियों ने शनि के चंद्रमा डियोन के वातावरण में ऑक्सीजन की मौजूदगी का पहली बार पता लगाने का दावा किया है।

वाशिंगटन: ग्रह विज्ञानियों ने शनि के चंद्रमा डियोन के वातावरण में ऑक्सीजन की मौजूदगी का पहली बार पता लगाने का दावा किया है।

 

‘जियोफिजिकल रिसर्च लेटर्स’ जर्नल में प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसार लॉस अलामोस नेशनल लैबोरेटरी के एक वैज्ञानिक दल ने कहा कि उसने डियोन के सबसे उपरी वातावरण में आण्विक आक्सीजन आयन का पता लगाया है। डियोन शनि के 62 उपग्रहों में से एक है। डियोन पर ऑक्सीजन की मौजूदगी का पता नासा के कसीनी अंतरिक्षयान की मदद से लगाया गया है।

 

डियोन का पता 1684 में खगोलविद गियोवानी कसीनी ने लगाया था। डियोन शनि की उसी दूरी पर परिक्रमा करता है, जितनी दूरी पर हमारा चंद्रमा पृथ्वी की करता है। यह छोटा सा उपग्रह महज 700 मील चौड़ा है।

 

चूंकि यह हर 2.7 दिन पर शनि की परिक्रमा करता है इसलिए डियोन पर शनि के बेहद सशक्त चुंबकीय क्षेत्र से निकलने वाले आवेशित कणों की बौछार होती है। ये आयन डियोन की सतह पर जोर से प्रहार करते हैं और स्पुटरिंग की प्रक्रिया के जरिए आण्विक ऑक्सीजन आयनों को विस्थापित करते हैं।

 

दल ने कहा कि उसके बाद शनि के मजबूत चुंबकीय क्षेत्र डियोन के बाह्य वातावरण परत से आण्विक ऑक्सीजन आयनों को हटाते हैं। कसीनी अंतरिक्षयान में लगे कसीनी प्लाज्मा स्पेक्ट्रोमीटर नाम के सेंसर ने डियोन पर ऑक्सीजन आयन का पता 2010 में लगाया था। अब वैज्ञानिकों ने शनि के उपग्रह पर ऑक्सीजन की मौजूदगी की पुष्टि की है। (एजेंसी)