`मां बनने पर महिला की याददाश्त और बढ़ जाती है`

शोधकर्ताओं का दावा है कि एक महिला की याददाश्त उसके मां बनने के साथ ही और भी बेहतर हो जाती है। डेली मेल की रिपोर्ट के अनुसार, अमेरिकी शोधकर्ताओं ने पाया है कि अपने बच्चों के साथ रह रही महिला में अन्य महिलाओं की तुलना में चीजों को याद रखने की क्षमता ज्यादा होती है।

लंदन : शोधकर्ताओं का दावा है कि एक महिला की याददाश्त उसके मां बनने के साथ ही और भी बेहतर हो जाती है। डेली मेल की रिपोर्ट के अनुसार, अमेरिकी शोधकर्ताओं ने पाया है कि अपने बच्चों के साथ रह रही महिला में अन्य महिलाओं की तुलना में चीजों को याद रखने की क्षमता ज्यादा होती है।
मियामी में कालरेस अलबीजु यूनिवर्सिटी की शोधकर्ता मेलिसा सांतियागो ने इस पत्र के माध्यम से कहा, अपने आस पास की चीजों को याद रखने और सूचनाओं को याद रखने के मामले में किए गए कई प्रयोगों में आम महिलाओं की तुलना में नई मांओं ने अच्छा अंक हासिल किए । यह शोध इस बात का खंडन करता है कि बच्चे होने के बाद महिलाओं की याद रखने की क्षमता प्रभावित होती है । सांतियागो ने पहली बार मां बनीं 35 महिलाओं जिनके दस से 24 माह के बच्चे थे और अब तक गर्भवती नहीं हुईं 35 महिलाओं पर विश्लेषण किया ।
इस परीक्षण के तहत महिलाओं को एक पेपर पर छह चिह्नों को दस सेकेंड के लिए दिखाया गया और फिर उनसे इन्हें अंकित करने के लिए कहा गया । पहली बार दोनों ही वर्ग की महिलाओं में याद रखने की क्षमता बराबर थी । लेकिन दूसरी और तीसरी बार में मांओं ने अच्छा प्रदर्शन किया जो यह दर्शाता है कि मांओं में याद रखने की क्षमता अन्य महिलाओं की तुलना में अच्छी होती है ।
इससे पूर्व के शोध में यह पता चला था कि गर्भधारण से महिलाओं के शारीरिक बदलाव होने के कारण उनका मस्तिष्क पांच प्रतिशत तक सिकुड़ जाता है । लेकिन बच्चे के जन्म के छह महीने बाद मस्तिष्क फिर से अपने वास्तविक आकार में आ जाता है । (एजेंसी)