पाक को 2 अरब डॉलर की सहायता देगा अमेरिका, शर्तें हटाईं

हक्कानी नेटवर्क पर लगाम लगाने की अपनी मांग को पाकिस्तान द्वारा कोई तव्वजो नहीं दिए जाने को नजरअंदाज करते हुए अमेरिका ने आतंकवाद के खिलाफ युद्ध में सहयोगी राष्ट्र को इस वर्ष की दो अरब डॉलर की सहायता के लिए जरूरी कानूनी शर्तों से छूट प्रदान कर दी है।

वाशिंगटन : हक्कानी नेटवर्क पर लगाम लगाने की अपनी मांग को पाकिस्तान द्वारा कोई तव्वजो नहीं दिए जाने को नजरअंदाज करते हुए अमेरिका ने आतंकवाद के खिलाफ युद्ध में सहयोगी राष्ट्र को इस वर्ष की दो अरब डॉलर की सहायता के लिए जरूरी कानूनी शर्तों से छूट प्रदान कर दी है।
अमेरिका ने इसके लिए तर्क दिया है कि यह कदम उसने राष्ट्रीय हित में उठाया है ।
विदेश विभाग के एक प्रवक्ता ने बताया, विदेश मंत्री ने वित्त वर्ष 2012 के लिए पाकिस्तान को कुछ नागरिक और सुरक्षा सहायता संबंधी कुछ प्रमाणन शर्तों को हटाने के लिए अपने अधिकार का इस्तेमाल किया है।
विदेश मंत्री ने यह तय किया है कि इस प्रकार की सहायता ‘अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा हित में है।’ विदेश मंत्री ने कहा, साझा हितों से जुड़े क्षेत्रों में ठोस कार्रवाई के लिए पाकिस्तान के साथ एक मजबूत तथा दोनों पक्षों को लाभकारी संबंध बनाने के लिए अमेरिका के प्रयासों में यह बेहद जरूरी तत्व है।
विदेश विभाग के एक अधिकारी ने अपना नाम गुप्त रखने की शर्त पर बताया कि पाकिस्तान से मिली हालिया चुनौतियों के बावजूद अमेरिका पिछले दिनों की ‘कुछ सकारात्मक घटनाओं’ से उत्साहित हुआ है जिनमें संयुक्त राष्ट्र महासभा से इतर मुलाकातें, वाशिंगटन में हुई बैठकें, अफगानिस्तान को साथ लेकर बनाए गए कोर ग्रुप में पाकिस्तान की भागीदारी शामिल हैं।
ओबामा प्रशासन लंबे समय से बार-बार पाकिस्तान से अपनी सुरक्षा सेवाओं और हक्कानी नेटवर्क के बीच संबंध खत्म किए जाने की बात कहता रहा है। अमेरिका ने कहा है कि पाकिस्तान को तालिबान से संबंध रखने वाले आतंकवादी संगठनों को अपने कबाइली इलाकों में बनाए गए सुरक्षित ठिकानों से अफगानिस्तान में गठबंधन बलों पर किए जा रहे हमलों को रोकने के लिए कदम उठाने चाहिए।
कांग्रेस रिसर्च सर्विस की मध्य अगस्त में जारी की गई ताजा रिपोर्ट में विदेश विभाग ने कांग्रेस को अपनी नीयत से अवगत कराते हुए कहा है कि पाकिस्तान को दी जाने वाली सहायता से कानूनी शर्तें हटाना अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा हितों में है। (एजेंसी)