‘हक्कानी नेटवर्क को पाक दे रहा है वित्तीय मदद’

आईएसआई प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल जहीर-उल-इस्लाम की ओर से सीआईए प्रमुख डेविड पेट्रॉयस के साथ निर्णायक बातचीत किए जाने के बीच अमेरिका के एक सैन्य अकादमी की रिपोर्ट में कहा गया है कि हक्कानी नेटवर्क को अब भी पाकिस्तान सेना से वित्तीय एवं अन्य दूसरी मदद मिल रही है।

वाशिंगटन : आईएसआई प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल जहीर-उल-इस्लाम की ओर से सीआईए प्रमुख डेविड पेट्रॉयस के साथ निर्णायक बातचीत किए जाने के बीच अमेरिका के एक सैन्य अकादमी की रिपोर्ट में कहा गया है कि हक्कानी नेटवर्क को अब भी पाकिस्तान सेना से वित्तीय एवं अन्य दूसरी मदद मिल रही है।
न्यूयॉर्क स्थित अमेरिकी सैन्य अकादमी के ‘कांबैटिंग टेररिज्म सेंटर’ की ओर से जारी रिपोर्ट में हक्कानी नेटवर्क को वित्तीय मिलने का उल्लेख किया गया है। रिपोर्ट के मुताबिक अफगान तालिबान से जुड़ा यह संगठन ‘माफिया’ की शैली में वित्तीय व्यवस्था का प्रबंध करता है और फिरौती, अपहरण, तस्करी तथा गैर कानूनी कारोबारियों के जरिए भी वह उगाही करता है।
इस रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई और हक्कानी नेटवर्क के बीच रिश्ते उतने सहज नहीं है जितना बाहर की दुनिया से दिखाई पड़ता है।
अमेरिकी सैन्य अकादमी की इस रिपोर्ट के मुताबिक पाकिस्तान के एक बड़े धार्मिक नेता ने कहा कि संबंध रखना और नियंत्रण में होने में फर्क है। उनके (हक्कानी) आईएसआई के साथ रिश्ते हैं, लेकिन वे इस खुफिया एजेंसी के तहत नहीं है। इस्लाम और पेट्रॉयस के बीच हुई मुलाकात के बारे में पाकिस्तानी दूतावास और सीआईए ने कोई विवरण नहीं दिया है।
माना जा रहा है कि इस मुलाकात में आईएसआई प्रमुख पर दबाव बनाया गया कि हक्कानी नेटवर्क के खिलाफ और अधिक सख्त कदम उठाया जाए। अमेरिका हक्कानी नेटवर्क को अलकायदा और तालिबान का सहयोगी मानता है। हक्कानी नेटवर्क अमेरिकी सुरक्षा बलों पर हुए कई हमलों में शामिल रहा है। (एजेंसी)