अन्ना जेल में, गुस्साई जनता सड़कों पर

अन्ना हजारे की गिरफ्तारी के विरोध में पूरे देश में आंदोलन शुरू हो गए हैं. अन्ना के गांव रालेगन सिद्धि से लेकर देश की राजधानी दिल्ली तक पूरे देश में लोगों में गुस्सा देखा जा रहा है.

ज़ी न्यूज़ ब्यूरो टीम

नई दिल्ली : मजबूत लोकपाल के लिए मुहिम चला रही टीम अन्‍ना के प्रणेता अन्ना हजारे के जमानत लेने से इनकार किये जाने पर उन्हें सात दिन की न्यायिक हिरासत में तिहाड़ जेल भेज दिया गया. समर्थकों की भारी भीड़ के बीच डीसीपी (वेस्‍ट) राजौरी गार्डन से अन्ना को तिहाड़ जेल ले जाने के दौरान पुलिस को काफी मशक्कत करनी पड़ी. पूर्व पुलिस अधिकारी किरण बेदी ने ट्विटर अकाउंट पर लिखा, ‘मुझे जमानत की पेशकश की गई थी. मैंने इससे इंकार कर दिया. यह आंदोलन का समय है और अब मैं न्यायिक हिरासत में तिहाड़ जेल भेजी जा सकती हूं.

अन्ना हजारे की गिरफ्तारी के विरोध में पूरे देश में आंदोलन शुरू हो गए हैं. अन्ना के गांव रालेगन सिद्धि से लेकर देश की राजधानी दिल्ली तक पूरे देश में लोगों में गुस्सा देखा जा रहा है. रालेगन सिद्धि, पुणे और मुंबई में लोगों ने सड़कों पर उतरकर विरोध प्रदर्शन किया. जैसे ही अन्ना हजारे और उनके सहयोगियों को गिरफ्तार किए जाने की खबर आई लोग रालेगन सिद्धि गांव पहुंच प्रदर्शन करना शुरू कर दिया. गांव में अभूतपूर्व बंद रखा गया है. राज्य सरकार की तरफ से पुणे, अहमदनगर, औरंगाबाद और नासिक में सुरक्षा के पुख्ता इंजताम किए गए थे।

राजधानी दिल्ली में बड़ी संख्या में लोग सड़कों पर उतर आए. लोग सरकार विरोधी नारे लगा रहे हैं और गिरफ्तारी दे रहे हैं. उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में बड़ी संख्या में लोगों ने सड़कों पर उतरकर विरोध प्रदर्शन किया. हजारे की तत्काल रिहाई की मांग को लेकर समाज के विभिन्न वर्गों के लोगों ने शहर के हजरतगंज, अमीनाबाद, गोमतीनगर, अलीगंज और महानगर इलाकों में प्रदर्शन किया. सरकारी लोकपाल विधेयक के खिलाफ नारे लगाते हुए लोगों ने दिल्ली पुलिस की कारवाई की निंदा की.

हिमाचल प्रदेश के मंडी शहर में कई सामाजिक कार्यकर्ताओं ने अनिश्चितकालीन अनशन शुरू किया. सूचना का अधिकार (आरटीआई) कार्यकर्ता लावन ठाकुर ने मंडी से बताया कि तय कार्यक्रम के अनुसार, हमने सख्त लोकपाल विधेयक के समर्थन में अपना अनशन शुरू किया है. चूंकि पुलिस ने अन्ना को हिरासत में ले लिया है, लिहाजा हमने अपनी पूर्व योजना के मुताबिक काम करने का निर्णय लिया है. जरूरत पड़ने पर हम गिरफ्तारी भी देंगे.

तमिलनाडु की राजधानी चेन्नई में एक वयोवृद्ध स्वतंत्रता सेनानी सहित समाज के विभिन्न तबकों से आए सौ से भी ज्यादा लोगों ने अनशन शुरू किया. अदयार इलाके के एक निजी निर्माण स्थल पर 85 वर्षीय स्वतंत्रता सेनानी लक्ष्मीकांत भारती ने आमरण अनशन शुरू किया. 30 से भी ज्यादा लोगों ने आमरण अनशन के लिए अपना नाम दर्ज कराया है जबकि लगभग 80 लोगों ने क्रमिक अनशन के लिए अपना नाम दर्ज कराया है.

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में लोग सड़कों पर उतर आए. हजारे अन्ना एवं उनके सहयोगियों की गिरफ्तारी की खबर मिलते ही इसके विरोध में राजधानी में पैदल विरोध मार्च निकाला गया और लोगों ने भ्रष्टाचार तथा केन्द्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी की. जयपुर समेत राज्य के कई हिस्सों में अन्ना समर्थक सड़कों पर उतरे. जयपुर में कई स्थानों पर लोग होकर हाथ में तिरंगा लिए हुए 'अन्ना हजारे तुम संघर्ष करो, हम तुम्हारे साथ है' के नारे लगा रहे हैं.