close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जलवायु परिवर्तन बढ़ाएगा बाढ़ और सूखा

जलवायु परिवर्तन के गंभीर परिणामों की चेतावनी देते हुए सरकार ने कहा है कि मौसम में बदलाव के कारण अगले 23 साल में बाढ और सूखे की घटनाओं में बढ़ोतरी होगी।

नई दिल्ली : जलवायु परिवर्तन के गंभीर परिणामों की चेतावनी देते हुए सरकार ने कहा है कि मौसम में बदलाव के कारण अगले 23 साल में बाढ और सूखे की घटनाओं में बढ़ोतरी होगी।
पर्यावरण एवं वन मंत्रालय के मुताबिक जलवायु परिवर्तन के आने वाले दशकों में गंभीर परिणाम सामने आने की आशंका है। मौसम में हो रहे बदलाव के चलते 2035 तक सूखे और बाढ़ की घटनाओं में इजाफा होगा और मलेरिया संक्रमण भी कई रूपों में मानवीय आबादी को घेरेगा।
मंत्रालय ने कहा कि भारत ने संयुक्त राष्ट्र की जलवायु परिवर्तन संबंधी एक बैठक में मई 2012 में अपनी रिपोर्ट पेश की है। इस रपट में कुछ परिणामों के साथ साथ शताब्दी के अंत तक वाषिर्क मध्यमान सतही वायु तापमान में 3.5 से 4.3 डिग्री सेल्सियस तक की वृद्धि होने की आशंका जतायी गई है।
रपट में कहा गया कि इससे देश के चार महत्वपूर्ण आर्थिक क्षेत्रों अर्थात वन, स्वास्थ्य, जल और कृषि के प्रभावित होने का खतरा है। संसद के बजट सत्र में भी इस मुद्दे को लेकर चिन्ता व्यक्त की गयी और सदस्यों ने इस बारे में सरकार से जवाब तलब किया। तब पर्यावरण एवं वन मंत्री जयंती नटराजन ने चेताया था कि आने वाले दशकों में जलवायु परिवर्तन के गंभीर परिणाम देखने को मिल सकते हैं। (एजेंसी)