टुंडा के ब्रेन मैपिंग टेस्ट की दिल्ली पुलिस ने मांगी अनुमति

दिल्ली पुलिस ने लश्कर-ए-तैयबा के प्रमुख बम विशेषज्ञ अब्दुल करीम टुंडा का ब्रेन मैपिंग परीक्षण कराने के लिए दिल्ली की एक अदालत से अनुमति मांगी है।

नई दिल्ली : दिल्ली पुलिस ने लश्कर-ए-तैयबा के प्रमुख बम विशेषज्ञ अब्दुल करीम टुंडा का ब्रेन मैपिंग परीक्षण कराने के लिए दिल्ली की एक अदालत से अनुमति मांगी है ताकि भारत और पाकिस्तान में उसके सहयोगियों के आतंकवादी नेटवर्क के खुलासे में मदद मिल सके।
दिल्ली पुलिस के विशेष प्रकोष्ठ ने मुख्य मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट अमित बंसल के समक्ष आज याचिका दाखिल की और कहा कि टुंडा के ब्रेन मैपिंग परीक्षण से देश की सुरक्षा और संप्रभुता विरोधी ताकतों द्वारा रची जा रही साजिश की जांच में मदद मिल सकेगी।
पुलिस ने कहा कि टुंडा का अहमदाबाद के एफएसएल विशेषज्ञों द्वारा परीक्षण कराया गया और उनका मत था कि टुंडा का जवाब काफी सतर्कता भरा है और इसकी पूरी सच्चाई पर संदेह है। पुलिस ने कहा कि विशेषज्ञों की विस्तृत रिपोर्ट की प्रतीक्षा की जा रही है।
पुलिस ने कहा कि भारत और पाकिस्तान में टुंडा के सहयोगियों के आतंकवादी नेटवर्क और उनके आतंकवादी डिजायन का पर्दाफाश किया जाना है। चूंकि विशेषज्ञों की औपचारिक रिपोर्ट आने में समय लगेगा और पुलिस हिरासत की अवधि सीआरपीसी द्वारा तय समय से आगे नहीं बढ़ायी जा सकती, ऐसे में अदालत से अनुरोध है कि आरोपी अब्दुल करीब टुंडा का ब्रेन मैपिंग परीक्षण कराने की अनुमति दी जाए। अदालत इस याचिका पर कल दलीलों की सुनवाई करेगी।
भारत ने 26/11 के मुंबई आतंकी हमले के बाद पाकिस्तान को जिन 20 आतंकवादियों को सौंपने को कहा था, 70 वर्षीय टुंडा उनमें से एक है। टुंडा को भारत नेपाल सीमा पर 16 अगस्त को गिरफ्तार किया गया था। उस पर देश में 40 बम विस्फोटों में शामिल होने का संदेह है। वह अपने खिलाफ दर्ज विभिन्न मामलों के सिलसिले में पुलिस हिरासत में है। (एजेंसी)