दुर्गा शक्ति निलंबन मामला: सपा ने सोनिया पर किया हमला

आईएएस अधिकारी दुर्गा शक्ति नागपाल के निलंबन मामले में समाजवादी पार्टी ने यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी पर हमला करते हुए कहा कि सोनिया को अपने दामाद रॉबर्ट वाड्रा के भूमि सौदे और अशोक खेमका के निलंबन मामले में प्रधानमंत्री को पत्र लिखना चाहिए।

ज़ी मीडिया ब्यूरो
लखनऊ: आईएएस अधिकारी दुर्गा शक्ति नागपाल के निलंबन मामले में समाजवादी पार्टी ने यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी पर हमला करते हुए कहा कि सोनिया को अपने दामाद रॉबर्ट वाड्रा के भूमि सौदे और अशोक खेमका के निलंबन मामले में प्रधानमंत्री को पत्र लिखना चाहिए।
सोनिया ने प्रधानमंत्री को लिखे अपने पत्र में कहा था कि इस बात को लेकर व्यापक स्तर पर चिंता है क्योंकि निलंबित आईएएस अधिकारी दुर्गा शक्ति नागपाल लोकसेवा के अपने कर्तव्य के पालन के दौरान, अवैध गतिविधियों में लिप्त निहित स्वार्थी तत्वों के खिलाफ खड़ी हुई थी। नागपाल को बिना ठोस कारणों के जल्दबाजी में निलंबित किया गया है। उन्होंने कहा, हमें यह सुनिश्चित करना है कि अधिकारी के साथ कोई अनुचित व्यवहार न हो। नागपाल उत्तर प्रदेश में खनन माफिया के खिलाफ कार्रवाई को लेकर चर्चा में थी। साथ ही उन्होंने प्रधानमंत्री से कहा है कि क्या सरकारी कर्मचारियों को अपने कर्तव्य को अंजाम देने के दौरान उनके संरक्षण के लिए कुछ और उपाय किए जाने की जरूरत है?
इस प्रतिक्रिया में सपा ने कहा, सोनिया गांधी को दो और पत्र लिखने चाहिए। एक हरियाणा के आईएएस अधिकारी अशोक खेमका के बारे में जिन्हें मुख्यमंत्री ने निलंबित किया था और दूसरा राजस्थान के मुख्यमंत्री को दो आईएएस अधिकारियों को निलंबित करने के लिए। दोनों मामलों में, राबर्ट वाड्रा का नाम आया था। ये मामले भूमि सौदों के बारे में थे। इसलिए उन्हें प्रधानमंत्री को दो पत्र लिखने चाहिए ताकि इन सभी मामलों में न्याय किया जा सके।
2010 बैच की भारतीय प्रशासनिक सेवा की अधिकारी 28 वर्षीय नागपाल को गौतम बुद्ध नगर के एसडीएम के पद से 27 जुलाई को एक मस्जिद की दीवार गिराने का कथित रूप से आदेश देने के लिए इस आधार पर निलंबित कर दिया गया था कि इससे सांप्रदायिक तनाव भड़क सकता था।