मुजफ्फरनगर दंगों ने गुजरात को पीछे छोड़ दिया : अल्वी

विवाद को हवा दे सकने वाले एक बयान में कांग्रेसी नेता राशिद अल्वी ने कहा कि मुजफ्फरनगर के दंगों ने गुजरात को बहुत पीछे छोड़ दिया है।

नई दिल्ली : विवाद को हवा दे सकने वाले एक बयान में कांग्रेसी नेता राशिद अल्वी ने कहा कि मुजफ्फरनगर के दंगों ने गुजरात को बहुत पीछे छोड़ दिया है।
दंगा प्रभावित मुजफ्फरनगर के लोनी में एक शिविर का दौरा करने के बाद उत्तरप्रदेश पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए गए अल्वी ने कहा कि उन्हें जबरन पुलिस चौकी ले जाया गया और एक घंटे तक हिरासत में रखे जाने के बाद उन्हें दिल्ली-उत्तरप्रदेश की सीमा पर लाकर छोड़ दिया गया।
मुस्लिमों की समस्याओं की ओर इशारा करते हुए अल्वी ने कहा कि मैंने गुजरात की भी यात्रा की है लेकिन मुजफ्फरनगर ने गुजरात को पीछे छोड़ दिया है। अल्वी ने दावा किया कि विभिन्न राहत शिविरों में रह रहे लोगों की कहानियां उनकी भारी पीड़ा की ओर इशारा करती हैं। राज्यसभा में आंध्र प्रदेश से कांग्रेस के पूर्व सांसद रहे अल्वी उत्तरप्रदेश से आते हैं और उन्हें सपा के बड़े आलोचक के तौर पर जाना जाता है।
मुलायम सिंह को ‘भाजपा का सबसे बड़ा एजेंट’ बताने पर वर्ष 2012 में अल्वी को पार्टी की ओर से फटकार लगाई गई थी। उस समय अल्वी कांग्रेस पार्टी के प्रवक्ता थे। कुछ माह पहले अखिल भारतीय कांग्रेस समिति में फेरबदल में अल्वी को इस पद से इस्तीफा देना पड़ा था। पिछले सप्ताह भी अल्वी ने सपा प्रमुख के खिलाफ हमला बोलते हुए उनसे पूछा था कि विहिप प्रमुख अशोक सिंघल के साथ पिछले माह हुई बैठक में ‘क्या हुआ था’।
अल्वी ने सपा प्रमुख से इसका ‘खुलासा’ करने के लिए कहा था। यह बैठक हिंदुत्व समूह की ‘84 कोसी यात्रा’ शुरू करने की कोशिश से कुछ ही दिन पहले हुई थी, जिसपर अखिलेश सरकार ने प्रतिबंध लगा दिया था। अल्वी ने यादव पर भाजपा के हाथ मजबूत करने का भी आरोप लगाया।
अल्वी ने कहा, ‘मुलायम सिंह यादव भाजपा के हाथ मजबूत कर रहे हैं। पश्चिमी उत्तरप्रदेश में हुए सांप्रदायिक दंगों ने मेरी उस बात को सही साबित कर दिया, जो मैंने एक साल पहले कही थी। मुलायम सिंह और भाजपा साथ-साथ हैं और हाल ही में हुई घटनाओं से यह पर्याप्त तरीके से साबित हो चुका है।’ (एजेंसी)