‘जवान की खुदकुशी से नहीं भड़की थी सांबा घटना’

सेना प्रमुख जनरल बिक्रम सिंह ने गुरुवार को जोर देकर कहा कि जम्मू की बख्तरबंद रेजिमेंट में अधिकारियों और जवानों के बीच तकरार इकाई के जवान द्वारा आत्महत्या किये जाने से कारण नहीं हुई थी।

नई दिल्ली : सेना प्रमुख जनरल बिक्रम सिंह ने गुरुवार को जोर देकर कहा कि जम्मू की बख्तरबंद रेजिमेंट में अधिकारियों और जवानों के बीच तकरार इकाई के जवान द्वारा आत्महत्या किये जाने से कारण नहीं हुई थी। जनरल सिंह ने एक कार्यक्रम के इतर कहा कि सेना ने दोनों घटनाओं की जांच के लिए दो अलग अलग कोर्ट आफ इंक्वायरी गठित की है।
सांबा घटना के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि हमने दो अलग अलग कोर्ट आफ इंक्वायरी गठित की हैं। घटना और आत्महत्या के बीच कोई संबंध नहीं है। उन्होंने कहा कि आपको बताना चाहूंगा कि स्थिति इतनी खराब नहीं है। हमने कोर्ट आफ इन्क्वायरी गठित की है और हम कारणों का पता लगा रहे हैं।’ यह पूछे जाने पर कि क्या घटनाएं बल के लिए चिंता का विषय है, सेना प्रमुख ने कहा कि ये छिटपुट घटनाएं हैं तथा सेना अपनी संस्कृति को मजबूत बनाने के प्रयास कर रही है।
उन्होंने कहा कि हम इन मुद्दों का समाधान करने के प्रयास कर रहे हैं। मैं जवानों और अधिकारियों को संबोधित करता रहा हूं और कल सियाचिन जा रहा हूं और वहां भी मैं यही करूंगा। अधिकारियों और जवानों के बीच तकरार की जांच के लिए गठित कोर्ट आफ इन्क्वायरी का नेतृत्व योल कैंट स्थित नौवीं कोर के ब्रिगेडियर स्तर के अधिकारी कर रहे हैं। गत आठ अगस्त को सांबा में तैनात 16वीं कैवलरी इकाई के अधिकारियों और जवानों के बीच तिरुवनंतपुरम निवासी जवान अरुण वी द्वारा आत्महत्या किए जाने बाद तकरार हो गई थी। (एजेंसी)