‘पाक मुगालता न पाले कि संबंध बेअसर रहेंगे’

भारत सरकार ने मंगलवार को कहा कि पाकिस्तान यह नहीं समझे कि दो भारतीय जवानों की क्रूरतम हत्या पर उसके ‘सरासर इंकार’ का असर द्विपक्षीय संबंधों पर नहीं पड़ेगा।

नई दिल्ली : भारत सरकार ने मंगलवार को कहा कि पाकिस्तान यह नहीं समझे कि दो भारतीय जवानों की क्रूरतम हत्या पर उसके ‘सरासर इंकार’ का असर द्विपक्षीय संबंधों पर नहीं पड़ेगा।
विदेश मंत्री सलमान खुर्शीद ने मीडिया से कहा,‘यह नहीं माने कि पाकिस्तान की ओर से सरासर इंकार व चलताऊ रवैए को नजरअंदाज कर दिया जाएगा एवं द्विपक्षीय संबंध अप्रभावित रहेंगे और सबकुछ सामान्य रूप से चलता रहेगा।’
पहले से तैयार बयान पढ़ते हुए विदेश मंत्री ने कहा कि पाकिस्तानी सैनिकों द्वारा 8 जनवरी को भारतीय क्षेत्र में घुसपैठ कर दो भारतीय जवानों की हत्या करना आचरण के सभी मानदंडों का उल्लंघन है और यह द्विपक्षीय संबंध जारी रखने के प्रति पाकिस्तान की इमानदारी को लेकर भारत के मन में संदेह पैदा करता है।
उन्होंने कहा कि जम्मू एवं कश्मीर में नियंत्रण रेखा से भारतीय क्षेत्र में घुसपैठ कर दो जवानों की क्रूरतापूर्वक हत्या और एक जवान का सिर लेकर भाग जाना और दूसरे के शव को क्षत-विक्षत करना ‘अत्यंत उकसाऊ’ और बर्दाश्त से बाहर है।
खुर्शीद ने कहा, ‘इस उकसाऊ घटना की सरकार ने भर्त्सना की है और पाकिस्तान सरकार से इस नाकाबिले बर्दाश्त कार्रवाई की उचित जांच कराने के लिए कहा है।’
प्रधानमंत्री की इस घोषणा के तुरंत बाद ही कि 8 जनवरी की जघन्य घटना के बाद पाकिस्तान के साथ संबंध सामान्य नहीं रह सकते, खुर्शीद ने प्रेस को संबोधित किया।
खुर्शीद ने भारत की ओर से क्या कदम उठाए जा सकते हैं इसका खुलासा करने से मना कर दिया। उन्होंने कहा, ‘क्या हो सकता है इसे साफ करना जरूरी है या हमारे आगे बढ़ने मे मददगार फैसले तय करना जरूरी है। हम दृढ और गंभीर हैं।’
उन्होंने कहा कि यह जरूरी है कि सरकार के नजरिए में व्यापक समुदाय के विचारों की झलक हो। इसकी जानकारी यहां मौजूद लोगों को मिले और सीमा पार भी उसकी गूंज पहुंचे। (एजेंसी)