90 के हुए श्वेत क्रांति के जनक कुरियन

श्वेत क्रांति के जनक वर्गीस कुरियन ने आज अपना 90वां जन्म दिन मनाया। कुरियन की अगुवाई में चले ‘आपरेशन फ्लड’ के बलबूते भारत दुनिया का सबसे बड़ा दूध उत्पादक देश बना।

आणंद (गुजरात) : श्वेत क्रांति के जनक वर्गीस कुरियन ने आज अपना 90वां जन्म दिन मनाया। कुरियन की अगुवाई में चले ‘आपरेशन फ्लड’ के बलबूते भारत दुनिया का सबसे बड़ा दूध उत्पादक देश बना। गुजरात कोआपरेटिव मिल्क मार्केटिंग फेडरेशन के चेयरमैन पार्थी भटोल और प्रबंध निदेशक आर.एस. सोधी की अगुवाई में संघ से जुड़े सैकड़ों लोग यहां कुरियन के घर उन्हें अच्छे स्वास्थ्य की शुभकामना देने पहुंचे।

 

इस अवसर पर कुरियन लोगों को क्या संदेश देना चाहेंगे, यह पूछे जाने पर उन्होंने कहा, ‘मेरा संदेश है कि इस आंदोलन को जारी रखें।’ केरल के कालीकट में 26 नवंबर, 1921 को जन्मे कुरियन ने मद्रास के लोयोला कालेज से स्नातक की पढ़ाई की और मद्रास विश्वविद्यालय से उन्होंने बीई किया। बाद में वह मिशिगन विश्वविद्यालय में मैकेनिकल इंजीनियरिंग में एमएससी की पढ़ाई करने एक सरकारी स्कॉलरशिप पर अमेरिका गए।

 

वर्ष 1949 में वह स्वदेश लौटकर काइरा जिला सहकारी दुग्ध उत्पादक संघ मर्यादित में शामिल हुए। इस संघ की स्थापना सरदार वल्लभभाई पटेल की पहल पर की गई थी। पटेल ने कुरियन को एक डेयरी प्रसंस्करण संयंत्र लगाने में मदद करने को कहा जिससे अमूल का जन्म हुआ। अमूल सहकारिता मॉडल सफल हुआ जिसे पूरे गुजरात में दोहराया गया। बाद में विभिन्न डेयरी संघों को गुजरात कोआपरेटिव मिल्क मार्केटिंग फेडरेशन के बैनर तले लाया गया।

 

भैंस के दूध से दूध पाउडर बनाने का श्रेय भी कुरियन को जाता है। उस समय, दुनिया में गाय के दूध से दूध पाउडर बनाया जाता था। (एजेंसी)