छत्तीसगढ़: सीआरपीएफ के साथ मुठभेड़ में 20 नक्सली ढेर

छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा के घने जंगलों में नक्सलियों के खिलाफ सीआरपीएफ की रातभर चली कड़ी कार्रवाई में एक महिला समेत कम से कम 20 नक्सली मारे गए हैं जबकि छह जवान घायल हुए।

रायपुर : छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा के घने जंगलों में नक्सलियों के खिलाफ सीआरपीएफ की रातभर चली कड़ी कार्रवाई में एक महिला समेत कम से कम 20 नक्सली मारे गए हैं जबकि छह जवान घायल हुए। नक्सलियों के गढ़ समझे जाने वाले सिलगर के जंगलों में यह मुठभेड़ हुई। बीती रात सीआरपीएफ के 300 जवानों और राज्य पुलिसकर्मियों ने तीन तरफ से संयुक्त कार्रवाई की।
राज्य के नक्सल मामलों के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक रामनिवास ने बताया कि पुलिस बल ने बस्तर क्षेत्र के बीजापुर और दंतेवाड़ा जिलों में हुई मुठभेड़ में मारे गए कम से कम 17 नक्सलियों के शव मुठभेड़ स्थल से बरामद किए। उन्होंने कहा कि तलाशी अभियान अभी जारी है और यह संख्या अभी बढ़ सकती है। इस बीच ऐसी खबरें आ रही हैं कि तीन और नक्सली मारे गए हैं।
सीआरपीएफ के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि इस मुठभेड़ में दो माओवादी घायल हो गए हैं और उन्हें गिरफ्तार कर इलाज के लिए रायपुर भेजा गया है। उन्होंने कहा कि नक्सलियों के प्रभाव वाले छत्तीसगढ़ में इस वर्ष सुरक्षा एजेंसियों की यह सबसे बड़ी कार्रवाई है। सीआरपीएफ अधिकारियों ने बताया कि बीजापुर-दंतेवाड़ा में सक्रिय दो ‘प्रमुख’ नक्सली इस मुठभेड़ में मारे गए हैं।
अधिकारी ने बताया कि दो कोबरा कमांडो समेत सीआरपीएफ के छह जवान घायल हो गए हैं। इन जवानों को गोलियां लगी हैं और उन्हें इलाज के लिए रायपुर ले जाया गया है। इनमें से दो की हालत गंभीर है। चिंतलनार के नजदीक यह वही इलाका है जहां नक्सलियों ने अप्रैल 2010 में हमला कर सीआरपीएफ के 75 जवानों और राज्य पुलिस के एक कर्मी की हत्या कर दी थी।
इस इलाके की विषम भौगोलिक स्थिति और नक्सलियों के बड़े दस्ते को ध्यान में रखते हुए सीआरपीएफ के एक उप महानिरीक्षक (डीआईजी) और दो कमांडेंट रैंक के अधिकारी तथा उनकी सहायता के लिये राज्य पुलिस के अतिरिक्त पुलिस निरीक्षक इस अभियान का नेतृत्व कर रहे हैं। सीआरपीएफ ने अपने कमांडो की तीन यूनिट और सामान्य सिपाही भेजे हैं और जगरगुंडा, चिंतलनर और बासागुडा की ओर से की गई कार्रवाई में मदद के लिये उनके साथ दो हेलीकाप्टर भी तैनात हैं।
सूत्रों के मुताबिक दोनों पक्षों के बीच भीषण गोलीबारी हुई है जो अल सुबह तक चलती रही। बस्तर क्षेत्र में माओवादियों द्वारा सुकमा जिले के कलेक्टर एलेक्स पॉल मेनन के नक्सलियों के अपहरण और बाद में रिहा किए जाने के करीब एक महीने बाद यह मुठभेड़ हुई है। सीआरपीएफ ने राज्य में नक्सल विरोधी अभियान के लिए 20 हजार जवान तैनात किये हैं। (एजेंसी)