जनरल वैद्य के हत्यारों के परिजनों को SGPC ने किया सम्मानित

वर्ष 1984 के ऑपरेशन ब्लू स्टार के दौरान मारे गए लोगों के लिए स्मारक बनाने पर जारी बहस के बीच शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (एसजीपीसी) ने एक विवादित कदम के तहत स्वर्ण मंदिर परिसर में जनरल एएस वैद्य के दो हत्यारों के परिजनों को सम्मानित किया।

अमृतसर : वर्ष 1984 के ऑपरेशन ब्लू स्टार के दौरान मारे गए लोगों के लिए स्मारक बनाने पर जारी बहस के बीच शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (एसजीपीसी) ने एक विवादित कदम के तहत स्वर्ण मंदिर परिसर में जनरल एएस वैद्य के दो हत्यारों के परिजनों को सम्मानित किया। एसजीपीसी ने मंगलवार को हरजिंदर सिंह और सुखदेव सिंह सुखा के परिजनों को अकाल तख्त पर सम्मानित किया।
सत्तारुढ़ शिरोमणि अकाली दल द्वारा नियंत्रित एजीपीसी ने जनरल वैद्य के हत्यारों को सिख शहीद करार दिया जिससे विवाद खड़ा हो गया है। एसजीपीसी ने इन दोनों हत्यारों की फांसी के 20 साल पूरे होने पर अकाल तख्त पर अखंड पाठ का आयोजन किया। हरजिंदर और सुखदेव के रिश्तेदारों के सम्मान समारोह की अध्यक्षता एसजीपीसी सचिव दलमेघ सिंह ने की।
सेना ने जब ऑपरेशन ब्लू स्टार चलाया था तब जनरल वैद्य सेना प्रमुख थे। वर्ष 1986 में पुणे में हरजिंदर और सुखदेव ने जनरल वैद्य की हत्या कर दी थी। वर्ष 1992 में दोनों हत्यारों को फांसी की सजा दी गई थी। (एजेंसी)