Zee Rozgar Samachar

राख में भंवरी को ढूंढ़ रही सीबीआई

केन्द्रीय फोरेंसिक प्रयोगशाला के वैज्ञानिकों के एक दल ने भंवरी की मौत के सबूत जुटाने के लिए पीपाड़ और बिलाड़ा कस्बे के निकट स्थित चूना-भट्ठी के राख की बारीकी से जांच की।

जोधपुर : लापता नर्स भंवरी देवी मामले की जांच कर रही सीबीआई ने जांच रफ्तार को तेजी देते हुए केन्द्रीय फोरेंसिक प्रयोगशाला के वैज्ञानिकों के एक दल को पीपाड़ और बिलाड़ा कस्बे के निकट भेजा जहां स्थित चूना-भट्ठी के राख की बारीकी से जांच की। दूसरी ओर सीबीआई ने कांग्रेस विधायक मलखान सिंह के परिजनों से तीन घंटे से अधिक समय तक पूछताछ की।

 

सीबीआई सूत्रों के अनुसार, फोंरसिक प्रयोगशाला के वैज्ञानिकों ने जोधपुर से करीब 60 किलोमीटर दूर पीपाड़ मार्ग पर स्थित चूने के भट्ठों में से एक भट्ठे की बारीकी से जांच की और चूना भट्ठा मालिक गोरधन सिंह से पूछताछ की। प्रयोगशाला वैज्ञानिक चूना भट्ठे की राख को छानकर कुछ सबूत पाने में जुटे हुए हैं।

 

सूत्रों के अनुसार, केन्द्रीय फोरेंसिक प्रयोगशाला दिल्ली से कल आये चार वरिष्ठ वैज्ञानिकों ने पीपाड़ के अलावा जोधपुर से करीब 80 किलोमीटर दूर बिलाड़ा कस्बे के निकट भी एक चूना-भट्ठे की काफी समय तक जांच की। वैज्ञानिकों ने मौके पर मौजूद लोगों से चूना-भट्ठे की प्रक्रिया के बारे में जानकारी जुटाई।

 

सूत्रों के अनुसार, जांच दल में शामिल अधिकारियों ने कांग्रेस विधायक मलखान सिंह की पत्नी ग्राम प्रधान कुसुम विश्नोई, उसके नजदीकी परिजन परसराम विश्नोई और नरेन्द्र विश्नोई से भी पूछताछ की। उन्होंने बताया कि सीबीआई कांग्रेस विधायक मलखान सिंह से सोमवार को फिर पूछताछ करेगी।

 

गौरतलब है कि सीबीआई ने राजस्थान हाईकोर्ट के न्यायाधीश गोविन्द माथुर और न्यायाधीश एस.एन. जैन की खंडपीठ के समक्ष लापता नर्स भंवरी देवी प्रकरण की स्टेटस रिपोर्ट गत 24 नवम्बर को बंद लिफाफे और बंद कमरे में पेश की। सीबीआई ने आगामी 15 दिसंबर को विस्तृत जांच रिपोर्ट कोर्ट में पेश करने की बात कही है।

 

सीबीआई ने लापता नर्स भंवरी देवी का सुराग देने वाले को दस लाख रुपये और इस प्रकरण में मुख्य अभिुयक्त समझे जाने वाले फरार सहीराम का सुराग देने पर पांच लाख रुपए का ईनाम देने की घोषणा कर रखी है। (एजेंसी)

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.