राज्य के विकास में कोई कोर-कसर नहीं छोडी: गहलोत

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि टोंक के नेगडियां पुल बनने के बाद बीसलपुर के डूब क्षेत्र में बसे गांवों को बेहतर आवागमन की सुविधा मिलेगी। साथ ही बरसात के मौसम में भी देवली एवं केकडी के मध्य आवागमन चालू रहेगा।

जयपुर : राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि टोंक के नेगडियां पुल बनने के बाद बीसलपुर के डूब क्षेत्र में बसे गांवों को बेहतर आवागमन की सुविधा मिलेगी। साथ ही बरसात के मौसम में भी देवली एवं केकडी के मध्य आवागमन चालू रहेगा।
गहलोत सोमवार को टोंक जिले के मालेडा में 60 करोड़ की लागत से बनास नदी पर नेगडियां हाई लेवल पुल निर्माण का शिलान्यास, 12 करोड़ की लागत से रामथला से बाजता के मध्य खारी नदी पर उच्च स्तरीय पुल के लोकार्पण, 17.37 करोड रुपये की लागत से हिसामपुर से बघेरा डाई नदी पर पुल एवं सडक निर्माण कार्य का शिलान्यास एवं राजमहल से बोटून्दा के मध्य बनास नदी पर रपटा व पुल के लोकार्पण समारोह को सम्बोधित कर रहे थे।
गहलोत ने कहा कि राज्य के चहुंमुखी विकास में कोई कसर बाकी नहीं छोडी हैं। राज्य में पेयजल, बिजली, सडक, स्वास्थ्य एवं सामाजिक सुरक्षा को प्राथमिकता देते हुए एक से बढकर एक कई जन कल्याणकारी योजनाओं को राज्य में पहली बार लागू किया गया है जिसका आमजन लाभ उठा रहे हैं।
उन्होंने कहा कि राज्य में नि:शुल्क दवा योजना, नि:शुल्क जांच योजना, मुख्यमंत्री अन्न सुरक्षा योजना, गरीबों को आवास सुविधा और पेंशन से आमजन को बड़ी राहत मिली हैं।
उन्होंने कहा कि केन्द्र सरकार ने शिक्षा का अधिकार, रोजगार गारन्टी के बाद अब खाद्य सुरक्षा योजना लागू की हैं, जिससे गरीब जनता को एक रुपये किलो में मोटा अनाज मिल सकेगा।
गहलोत ने कहा कि किसानों को 15 हजार करोड़ रुपए का ऋण दिया गया है, जो किसान समय पर लिये गये ऋण को समय पर चुकायेगा तो उसे किसी प्रकार का ब्याज नहीं देना पडेगा। राज्य में किसानों को पहली बार पंचायत, जिला एवं राज्य स्तर पर सम्मानित किया जा रहा हैं। उन्होंने किसानों से कहा कि वे सिंचाई में पानी की एक एक बूंद का बेहतर प्रयोग करें। (एजेंसी)