`2जी का समोसा` को लेकर भड़क सकती है हिंसा: गुजरात कांग्रेस

यूपीए सरकार के घोटालों से संबंधित बिल छापने पर मुंबई के अदिति होटल को निशाने बनाए जाने की घटना के बाद घोर आलोचना के घेरे में आई कांग्रेस ने अब चेतावनी दी है कि यदि गुजरात के प्रसिद्ध होटलों और रेस्‍टोरेंटों में उसके कार्यकाल में उजागर हुए घोटालों के नाम से जुड़े डिश (भोजन) को परोसा गया तो हिंसा भड़क सकती है।

ज़ी मीडिया ब्‍यूरो
अहमदाबाद : यूपीए सरकार के घोटालों से संबंधित बिल छापने पर मुंबई के अदिति होटल को निशाने बनाए जाने की घटना के बाद घोर आलोचना के घेरे में आई कांग्रेस ने अब चेतावनी दी है कि यदि गुजरात के प्रसिद्ध होटलों और रेस्‍टोरेंटों में उसके कार्यकाल में उजागर हुए घोटालों के नाम से जुड़े डिश (भोजन) को परोसा गया तो हिंसा भड़क सकती है। यदि जीआरएचएफ के सदस्‍य अपनी इस योजना के साथ आगे बढ़ने का निर्णय करते हैं तो होटलों और रेस्‍टोरेंटों में आने वाले लोगों को गरमा गरम का "2जी का समोसा ka" या `` कोलगेट सैं‍डविच" खाने का अवसर हाथ लग सकता है।
कांग्रेस के वडोदरा ईकाई के शैलेश अमीन ने चेतावनी दी है कि यदि गुजरात के रेस्‍टोरेंटों में घोटले-भ्रष्‍टाचार के नाम पर डिश को सर्व किया गया तो हिंसा हो सकती है। वडोदरा सिटी कांग्रेस ने बीते दिनों यूपीए सरकार के कार्यकाल में उजागर हुए घोटालों से जुड़े नाम वाले फूड एवं बेवरेज को परोसे जाने की तैयारी को लेकर रेस्‍टोरेंटों के नाम खुली धमकी दी थी। कांग्रेस के जिला अध्‍यक्ष नरेंद्र रावत ने कहा कि यह विरोध का उचित एवं सही तरीका नहीं है। यदि कोई रेस्‍टोरेंट अपने मीनू कार्ड में घोटालों के नाम का जिक्र करता है तो हम उसके परिसर में जाकर विरोध करेंगे। यदि कार्यकर्ता अपना आपा खो बैठते हैं और रेस्‍टोरेंट को नुकसान पहुंचता है तो हम इसके लिए जिम्‍मेदार नहीं होंगे।
गौर हो कि गुजरात के होटल मालिक मुंबई के उस अदिति होटल के पक्ष में खड़े हो गए हैं, जिसने अपने बिल में भ्रष्टाचार-महंगाई को लेकर यूपीए सरकार पर टिप्पणी की थी। गुजरात के होटल स्वामियों का कहना है कि केंद्र के भ्रष्टाचार को उजागर करने के लिए वह ग्राहकों के सामने घोटालों के नाम से खाद्य सामग्री परोसेंगे, जैसे 2-जी समोसा, सीडब्ल्यूजी पकोड़ा, कोलगेट सैंडविच आदि। वहीं, कांग्रेस समर्थकों का कहना है कि होटलों में राज्य के स्टोन चोर मंत्री के नाम पर दाल बोखिरिया, मोदी के नाम पर फेंकू थाली भी बेंची जानी चाहिए।
गुजरात होटल फेडरेशन (जीआरएचएफ) के सदस्य अश्विन गांधी का कहना है कि अदिति होटल ने अपने बिल में सरकार की आलोचना करके कोई गलत काम नहीं किया है। हम लोग केंद्र के भ्रष्टाचार को उजागर करने के लिए घोटाले के नाम से खाद्य सामग्रियां बेचेंगे। अश्विन के हवाले से कहा गया है कि हर नागरिक को अपने विचार व्‍यक्‍त करने का अधिकार है। फेडरेशन के सदस्‍य रेस्‍टोरेंटों पर नए सर्विस टैक्‍स के बिलकुल खिलाफ हैं। कुछ माह पहले केंद्र ने सर्विस टैक्‍स को लागू किया था। ज्ञात हो कि जीआरएचएफ के राज्‍य भर 6000 से अधिक सदस्‍य हैं।
वहीं, गुजरात होटल फेडरेशन के फैसले पर कांग्रेस समर्थकों ने फेसबुक पर कड़ी प्रतिक्रिया दी है। एक समर्थक ने पोस्ट किया है कि होटल मालिक अपने खाने के नाम कुछ इस तरह भी रख सकते हैं। 54 करोड़ के लाइम स्टोन चोरी में सजा पाने वाले गुजरात सरकार के मंत्री के नाम पर दाल बोखिरिया, भाई-भतीजों को ठेके दिलाने के आरोपी पूर्व मंत्री दिलीप संघानी के नाम पर वेज संघानी, नरेंद्र मोदी के नाम पर फेंकू थाली, अदानी मसाला भेल आदि।