close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

संजय दत्‍त के जेल जाने के बाद बेटी त्रिशला ने तोड़ी चुप्‍पी

बॉलीवुड अभिनेता संजय दत्त के जेल जाने के बाद बेटी त्रिशला दत्त ने अपनी चुप्पी तोड़ी है। त्रिशला ने पापा संजय दत्त के जेल जाने से लेकर, उस समय उनका पापा के साथ ना होना और बॉलीवुड़ में अपने कैरियर के बारे में सभी सवालों का जवाब दिया है।

ज़ी मीडिया ब्‍यूरो
न्यूयॉर्क : बॉलीवुड अभिनेता संजय दत्त के जेल जाने के बाद बेटी त्रिशला दत्त ने अपनी चुप्पी तोड़ी है। त्रिशला ने पापा संजय दत्त के जेल जाने से लेकर, उस समय उनका पापा के साथ ना होना और बॉलीवुड़ में अपने कैरियर के बारे में सभी सवालों का जवाब दिया है।
आपको बता दें कि त्रिशला ने लंबे समय से मीडिया से दूरी बनाई हुई है। यहां तक कि जब संजय दत्त अपनी सजा पूरी करने जेल गए तब भी त्रिशला मुंबई में मौजूद नहीं थी। हाल ही में त्रिशला ने अपने ब्लॉग में सभी सवालों का जवाब दिया है।
त्रिशला ने अपने ब्लॉग में लिखा है, `मैं जानती हूं कि आप सभी इस बात से वाकिफ हैं कि पिछले कुछ समय में मेरे पापा के साथ क्या-क्या हुआ है और अगर आप नहीं जानते तो मैं आपको बता दूं कि मेरे पापा को तीन साल की सजा हुई है। मैं खुद ही हैरान हूं कि इतना सब हो जाने के बाद भी इतनी चुप क्यों हूं।
मैं अपने पापा से बेहद प्यार करती हूं। वो मेरे लिए सबकुछ हैं। मुझे हैरानी होती है कि लोग मेरे पापा के साथ सरेंडर के समय ना होने से, इंस्टाग्राम पर तस्वीर डालने से और मेरे इतने समय से चुप रहने के उल्टे-सीधे मतलब क्यों निकाल रहे हैं। क्या किसी के दिमाग में यह नहीं आया कि हो सकता है पापा ने मुझे यहां आने के लिए ही मना किया हो। मैं आखिरी बार मुंबई जनवरी 2007 में आई थी । तब मान्यता और मुझे लेकर मीडिया में काफी बातें की गई थीं।
अभी फिलहाल मेरा परिवार काफी बुरे टाइम से गुजर रहा है और अबी मैं और मेरा परिवार फिर से मीडिया का निशाना नहीं बनना चाहते। एक समय वो भी था जब मैंने बॉलीवुड में आने का फैसला लिया था। यह मेरा सबसे ज्यादा गलत और जिद्दीपन में आकर लिया गया फैसला था और शुक्र है कि मैं बॉलीवुड का हिस्सा नही बनीं। मैंने नादानी में यह फैसला लिया था लेकिन अब मुझे पता है कि मुझे क्या करना है लेकिन मैं बालीवुड में नहीं जाना चाहती।
पिछले छह सालों में मुझे और पापा को लेकर मीडिया ने काफी कुछ कहा है। मेरे लिए अच्छा यही है कि मैं यहीं रहूं ताकि इस मुश्किल घड़ी में मेरे परिवार को मीडिया की वजह से और मुसीबतों का सामना ना करना पडे, क्योंकि मीडिया बात का पता नहीं क्या बना देती है।