close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

Amway इंडिया के चेयरमैन को 14 दिन की न्यायिक हिरासत

डायरेक्ट सेलिंग कंपनी ऐम्वे इंडिया के खिलाफ हुई एक शिकायत के सिलसिले में कंपनी के अध्यक्ष एवं मुख्य कार्यकारी विलियम एस पिंक्ने को आंध्र प्रदेश पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए जाने के बाद आज 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया।

कुरनूल (आंध्र प्रदेश) : डायरेक्ट सेलिंग कंपनी ऐम्वे इंडिया के खिलाफ हुई एक शिकायत के सिलसिले में कंपनी के अध्यक्ष एवं मुख्य कार्यकारी विलियम एस पिंक्ने को आंध्र प्रदेश पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए जाने के बाद आज 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया।
कुरनूल के पुलिस अधीक्षक रघुरामी रेड्डी ने बताया कि पिंक्ने को एक वारंट के आधार पर कल गुड़गांव में पुलिस हिरासत में लिया गया था और वहां से उन्हें कुरनूल लाया गया। ऐम्वे के परिचालन में कथित वित्तीय अनियमितताओं की एक शिकायत पर यह गिरफ्तारी की गई है।
उन्होंने कहा, सीईओ को प्राइज चिट्स एंड मनी सकरुलेशन स्कीम (निषेध) कानून के तहत गिरफ्तार किया गया है। इसके अलावा, उन पर धोखाधड़ी व फिरौती का भी आरोप है। यह दूसरी बार है कि एम्वे इंडिया के सीईओ को हिरासत में लिया गया है। इससे पहले कथित वित्तीय अनियमितताओं के आरोप में पिंक्ने और एम्वे कंपनी के दो निदेशकों को केरल पुलिस द्वारा पिछले साल गिरफ्तार किया गया था।
पिंक्ने को यहां से 50 किलोमीटर दूर धोन कस्बे में एक अदालत में पेश किया गया और अदालत ने उन्हें 7 जून तक के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया। उनकी जमानत की अर्जी अदालत में दाखिल की गई। उस पर सुनवाई कल तक के लिए टाल दी गई। एक अन्य पुलिस अधिकारी ने कहा कि पिंक्ने को कडप्पा जिले की जेल में भेज दिया गया है।
इस घटनाक्रम पर प्रतिक्रिया देते हुए एम्वे ने एक आधिकारिक बयान में कहा, चूंकि यह गिरफ्तारी अवांछित थी और जिस मामले के खिलाफ कार्रवाई की गई है उसे दिसंबर, 2013 में दर्ज किया गया था, कंपनी इस घटनाक्रम को लेकर दुखी व अचंभित है। डारेक्ट सेलिंग कंपनियों के संगठन आईडीएसए और उद्योग मंडल फिक्की ने पिंकनी की अचानक गिरफ्तारी की निंदा की है। फिक्की के महासचिव डा ए दीदार सिंह ने एक बयान में कहा कि फिक्की को इस गिरफ्तारी से दु:ख हुआ है और वह इसकी निंदा करता है। आईडीएसए की महासचिव छवि हेमंत ने एक बयान में कहा कि यह घटना दर्शाती है कि प्राइज चिट एण्ड मनी सकरुलेशन (प्रतिबंध) कानून 1978 में शीघ्र संशोधन की जरूरत है।

(एजेंसी)