close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

महंगाई पर अंकुश के लिए आरबीआई बढ़ा सकता है रेपो दर

खुदरा एवं थोक मुद्रास्फीति में लगातार वृद्धि के बीच रिजर्व बैंक बुधवार को पेश होने वाली मौद्रिक नीति की मध्य तिमाही समीक्षा में प्रमुख नीतिगत दरों में 0.25 प्रतिशत की एक और वृद्धि कर सकता है।

नई दिल्ली : खुदरा एवं थोक मुद्रास्फीति में लगातार वृद्धि के बीच रिजर्व बैंक बुधवार को पेश होने वाली मौद्रिक नीति की मध्य तिमाही समीक्षा में प्रमुख नीतिगत दरों में 0.25 प्रतिशत की एक और वृद्धि कर सकता है।
रिजर्व बैंक यदि मध्य तिमाही समीक्षा में नीतिगत दरों में वृद्धि करता है तो केन्द्रीय बैंक के गवर्नर रघुराम राजन के पद ग्रहण करने के बाद यह लगातार तीसरी वृद्धि होगी। थोक मूल्य सूचकांक पर आधारित मुद्रास्फीति नवंबर में बढ़कर 7.52 प्रतिशत पर पहुंच गई जो कि 14 महीने का शीर्ष स्तर है। मुद्रास्फीति की इस वृद्धि में प्याज, टमाटर, आलू जैसे रोजमर्रा की खाने पीने की वस्तुओं के उंचे दाम का काफी योगदान रहा है।
दूसरी तरफ उपभोक्ता मूलय सूचकांक भी नौ महीने के उच्चस्तर तक पहुंचकर नवंबर में 11.24 प्रतिशत हो गया। इसके विपरीत औद्योगिक उत्पादन में अक्तूबर माह के दौरान 1.8 प्रतिशत गिरावट दर्ज की गई। औद्योगिक उत्पादन सूचकांक में पिछले चार महीने में पहली बार गिरावट दर्ज की गई। (एजेंसी)