रिलायंस इंडस्ट्रीज, बीपी ने एक और गैस ब्लॉक छोड़ा

रिलायंस इंडस्ट्रीज और उसकी साझीदार बीपी ने एक और तेल एवं गैस ब्लॉक छोड़ दिया है। इस तरह इन कंपनियों के पास अब सिर्फ 5 ब्लाक रह गए हैं, जबकि तीन साल पहले इनके पास 21 ब्लाक थे।

नई दिल्ली : रिलायंस इंडस्ट्रीज और उसकी साझीदार बीपी ने एक और तेल एवं गैस ब्लॉक छोड़ दिया है। इस तरह इन कंपनियों के पास अब सिर्फ 5 ब्लाक रह गए हैं, जबकि तीन साल पहले इनके पास 21 ब्लाक थे।

रिलायंस इंडस्ट्रीज ने पहली तिमाही के नतीजों के बाद निवेशकों के समक्ष प्रस्तुतीकरण में कहा, पोर्टफोलियो को तर्कसंगत बनाने के तहत सीवाई-डी6 (ब्लॉक कावेरी पालार नदी घाटी के गरहे समुद्री क्षेत्र में स्थित ब्लॉक) सरेंडर किया गया है। रिलायंस इंडस्ट्रीज ने फरवरी, 2011 में एक बड़े बदलाव वाले करार की घोषणा की थी। इसके तहत ब्रिटेन की बीपी ने उसके 23 तेल एवं गैस ब्लॉकों में 30 फीसद हिस्सेदारी का अधिग्रहण किया था। हालांकि उसी साल अगस्त में सरकार ने उन्हें सिर्फ 21 ब्लॉकों में साझीदारी की अनुमति दी।

रिलायंस व बीपी 2012 से अपने पोर्टफोलियो में कमी कर रही हैं। दोनों कंपनियों ऐसे ब्लाक सरेंडर कर रही हैं जो आर्थिक दृष्टि से व्यावहारिक नहीं हैं। इस साल इन कंपनियों ने सीवाई-पीआर-डीडब्ल्यूएन-2001-3 या सीवाई-डी6 ब्लाक छोड़ा है। रिलायंस ने फरवरी, 2012 में ब्लाक में एसए1 कुएं में खोज की भी घोषणा की थी। इसे डी-53 का नाम दिया गया था।

रिलायंस इंडस्ट्रीज के मौजूदा पोर्टफोलियो में बंगाल की खाड़ी में केजी-डीडब्ल्यूएन-98-3 ब्लाक व पश्चिमी अपतटीय क्षेत्र में पन्ना-मुक्ता व ताप्ती तेल एवं गैस क्षेत्र शामिल हैं। बीपी के साथ उसके पांच ब्लाक बचे हैं। इनमें केजी-डी6 और गैस खोज क्षेत्र एनईसी-ओएसएन-97-2 (एनईसी-25) तथा सीवाई-डीडब्ल्यूएन-2001-2 (सीवाई-डी5) शामिल हैं।