'हमशक्ल्स' (रिव्यू) : तीन-तीन भूमिकाओं से उलझी फिल्म, सैफ पर भारी पड़े रितेश

निर्माता-निर्देशक साजिद खान की कॉमेडी फिल्म 'हमशक्ल्स' शुक्रवार को रुपहले पर्दे पर अवतरित हुई। लोगों ने इस फिल्म से काफी उम्मीदें लगा रखी थीं लेकिन साजिद की इस फिल्म में 'हाउसफुल' की तरह कॉमेडी का तड़का नहीं है। फिल्म में मुख्य किरदारों के तीन-तीन रोल हैं जिससे कहानी समझने में दिमाग पर काफी जोर लगाना पड़ता है। कंफ्यूजिंग कहानी के चलते हास्य का तड़का कमजोर हो जाता है।   

'हमशक्ल्स' (रिव्यू) : तीन-तीन भूमिकाओं से उलझी फिल्म, सैफ पर भारी पड़े रितेश

दिल्ली : निर्माता-निर्देशक साजिद खान की कॉमेडी फिल्म 'हमशक्ल्स' शुक्रवार को रुपहले पर्दे पर अवतरित हुई। लोगों ने इस फिल्म से काफी उम्मीदें लगा रखी थीं लेकिन साजिद की इस फिल्म में 'हाउसफुल' की तरह कॉमेडी का तड़का नहीं है। फिल्म में मुख्य किरदारों के तीन-तीन रोल हैं जिससे कहानी समझने में दिमाग पर काफी जोर लगाना पड़ता है। कंफ्यूजिंग कहानी के चलते हास्य का तड़का कमजोर हो जाता है।   

फिल्म में मुख्य किरदार सैफ अली खान, रितेश देशमुख और राम कपूर ने निभाया है। खास बात यह है कि इन तीनों ने फिल्म में तीन-तीन भूमिकाएं निभाई हैं। अशोक सिंघानिया (सैफ अली खान) लंदन के बहुत बड़े कारोबारी हैं। अशोक और कुमार (रितेश देशमुख) दोनों करीबी दोस्त हैं। अशोक के पिता कोमा में हैं और उसके मामा (राम कपूर) चाहते हैं कि पूरी संपत्ति उन्हें मिल जाए। इसके लिए दो शर्तें हैं कि या तो अशोक कुमार पागल हो जाए और या तो कोमा में चला जाए। मामा साजिश रचकर अशोक और कुमार को पागलखाने पहुंचा देता है।

दूसरी तरफ अशोक कुमार और कुमार के हमशक्ल्स भी उसी पागलखाने की जेल में बंद हैं। ईशा गुप्ता जो कि पागलखाने में डॉक्टर है वो समझ जाती है कि कोई अशोक कुमार के खिलाफ साजिश कर रहा है और वो अशोक कुमार को पागलखाने से छोड़ देती है।

फिल्म में तमन्ना भाटिया एक टीवी चैनल की होस्ट बनी हैं। वहीं ईशा गुप्ता डॉक्टर और बिपाशा बासु अरबपति अशोक की सेक्रेटरी का किरदार निभा रही हैं। जो फिल्म में कुछ गानों और रोमांटिक सीन्स में नजर आती हैं।

अभिनय की अगर बात करें तो रितेश देशमुख अपनी कॉमेडी में बाकी सभी कलाकारों पर भारी पड़े हैं। रितेश ने साबित कर दिया है कि इस तरह के किरदार करने में उन्हें महारथ हासिल हो गई है। इस तरह के रोल वह पहले भी कर चुके हैं लेकिन सैफ अली खान कई जगहों पर जरूरत से ज्यादा एक्टिंग करते नजर आए हैं। जबकि राम कपूर ने अपनी भूमिका अच्छी तरह निभाई है। वहीं, बिपाशा बसु, ईशा गुप्ता और तमन्ना भाटिया सिर्फ ग्लैमर का तड़का लगाने के लिए हैं। उनके हिस्से ज्यादा कुछ नहीं आया है।

फिल्म की कहानी इंटरेस्टिंग लेकिन काफी कंफ्यूज करने वाली है। अगर आप सिर्फ उल्टी-सीधी कॉमेडी देखना चाहते हैं तो "हमशक्ल्स" ठीक है। "हाउसफुल" और "हाउसफुल 2" की यादें घर पर छोड़कर जाएं, क्योंकि इससे आपको निराशा ही हाथ लगेगी।