कांग्रेस की नीयत `बांटो और राज करो`, वंदे मातरम के भी दो टुकड़े कर दिए: मोदी

भ्रष्टाचार एवं ‘विभाजनकारी’ राजनीति को करने का कांग्रेस पर आरोप लगाते हुए नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को लोगों का आह्वान किया कि देश को विकास एवं समृद्धि के पथ पर ले जाने के लिए राष्ट्र को ऐसे ‘दीमकों’ से मुक्त कराएं एवं भाजपा को सत्ता में लाएं।

ज़ी मीडिया ब्‍यूरो
आगरा : भ्रष्टाचार एवं ‘विभाजनकारी’ राजनीति को करने का कांग्रेस पर आरोप लगाते हुए नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को लोगों का आह्वान किया कि देश को विकास एवं समृद्धि के पथ पर ले जाने के लिए राष्ट्र को ऐसे ‘दीमकों’ से मुक्त कराएं एवं भाजपा को सत्ता में लाएं। मोदी ने यहां एक विशाल जनसभा को संबोधित करते हुए सपा और बसपा पर भी प्रहार किया और कहा कि उनकी कांग्रेस की तरह ही केवल वोटबैंक की राजनीति में रूचि है और वे उसमें अपना हित जोड़कर उससे (कांग्रेस से) भी आगे निकल गए हैं। मोदी ने कांग्रेस पर जोरदार हमला बोलते हुए कहा कि कांग्रेस की नीयत `बांटो व राज करो` पर आगे बढ़ने की है। उन्होंने कहा कि तुष्टीकरण के लिए कांग्रेस ने `वंदे मातरम` के दो टुकड़े कर दिए।
मोदी ने कांग्रेस के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार पर करारा हमला बोलते हुए गुरुवार को कहा कि केंद्र की सरकार को लकवा मार गया है। मोदी ने कहा कि कांग्रेस, सपा और बसपा की तिकड़ी से मुक्ति पाने का समय अब आ गया है। आगरा स्थित कोठी मीना बाजार मैदान में गुरुवार को जनसभा को संबोधित करते हुए मोदी ने केंद्र सरकार के साथ ही सूबे की वर्तमान समाजवादी पार्टी (सपा) सरकार और पूर्व में राज्य में शासन कर चुकी बहुजन समाज पार्टी (बसपा) पर जमकर हमला बोला। मोदी ने कहा कि सपा, बसपा और कांग्रेस तीनों वोट बैंक के लालच में तुष्टिकरण का खेल खेल रहे हैं।
मोदी ने अपने भाषण में कांग्रेस पर तीखा प्रहार आगे भी जारी रखा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस एक विघटनकारी पार्टी है और उसे सिर्फ विभाजन से मतलब है। मोदी ने कांग्रेस पर आरोप लगाया कि विभाजन करके राजनीति करना ही कांग्रेस की आदत है। उन्होंने कहा कि आजादी की लड़ाई के समय कांग्रेस ने देश का विभाजन किया और अब तुष्टिकरण की राजनीति के लिए उसने देश को दो खांचों में बांट दिया है। कांग्रेस की इसी विभाजनकारी नीति को सपा और बसपा ने आगे बढ़ाया है। ये लोग भी समाज में तुष्टिकरण का जहर फैलाकर राजनीतिक हित साधते हैं।
भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार ने कहा कि कांग्रेस ‘अहंकारी’ एवं ‘मोटी चमड़ी वाली’ है और उसे लोगों की कोई परवाह नहीं है क्योंकि वह यह मानकर चलती है तो जनता तो उसकी जेब में है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस दीमक की तरह है। उन्होंने कहा कि दिल्ली की कांग्रेस पार्टी की भारत की प्रगति में दिलचस्पी नहीं है। उन्हें राष्ट्र की तकदीर बदलने में रूचि नहीं है। उन्हें वोटबैंक की राजनीति की लत पड़ गयी है। वे हमेशा ही जोड़तोड़ की राजनीति करते हैं। यही वजह है कि वे 25 फीसदी लोगों को साथ रखते हैं और शेष 75 फीसदी को नजरअंदाज करते हैं। यही कांग्रेस पार्टी की निशानी है।
मोदी ने कहा कि यह (कांग्रेस) फूट डालो, राज करो अपनाकर विभाजन करने वाली पार्टी है, यही उसका स्वभाव है। कांग्रेस ने आजादी के वक्त देश का विभाजन कर दिया.। उसने वंदे मातरम को बांट दिया, कश्मीर में अलग कानून की इजाजत दे दी, तथा जनता को पानी, भाषा जैसे मानकों के आधार पर बांट दिया। उसने उत्तर-दक्षिण एवं शहरी ग्रामीण का विभाजन पैदा किया।
उन्होंने सपा और बसपा जैसे दलों पर अपना प्रहार तेज करते हुए कहा कि उन्होंने कांग्रेस से यह (वोटबैंक की राजनीति) चुराया और उसमें अपना रंग लगा दिया और अब वे अब एक दूसरे से होड़ कर रहे हैं। फलस्वरूप उनमें इस बात की प्रतिस्पर्धा छिड़ गई है कि वोटबैंक की राजनीति में कौन आगे रहे। उन्होंने कहा कि सपा और बसपा कांग्रेस के पापों के परिणाम हैं। इस वोटबैंक की राजनीति ने देश को बर्बाद कर दिया है। आज, राष्ट्र विकास के पथ पर चलना चाहता है। भाजपा राष्ट्र एवं जनता को एकजुट रखने की राजनीति करती है। भाजपा वोटबैंक की राजनीति से उपर है और वह विकास की राजनीति करती है।
भ्रष्टाचार के मुद्दे पर संप्रग को निशाना बनाते हुए मोदी ने कहा कि भ्रष्टाचार का स्तर इतना गिर गया है कि कांग्रेस के मंत्री भ्रष्टाचार के आंकड़ों में यकीन नहीं करते। उन्होंने एक केंद्रीय मंत्री और उनके परिवार की ओर से संचालित गैर सरकारी संगठन द्वारा 70 लाख रूपए के कथित गबन का हवाला दिया और कहा कि एक अन्य मंत्री ने यहां तक कह दिया, 70 लाख तो कुछ नहीं है। यदि 70 करोड़ होता, तब मुझे केंद्रीय मंत्री की संलिप्तता पर विश्वास होता। उन्होंने कहा कि वे मोटी चमड़ी वाले बन गए हैं। वे सोचते हैं कि देश की जनता तो उनकी जेब में हैं। उन्हें उनकी चिंता नहीं है। वे अहंकारी हो गए हैं। कांग्रेस का यह अहंकार एवं भाई-भतीजावाद राष्ट्र को दीमक की तरह खा रहा है।
मोदी ने कांग्रेस, बसपा और सपा के शासनकाल में देश का वर्तमान बर्बाद होने का आरोप लगाते हुए कहा कि राष्ट्र बचे या नहीं उन्हें उसकी परवाह नहीं है। हमारा आज बर्बाद हो गया। क्या आप अपना कल भी बर्बाद होने देंगे। आपको देश को कांग्रेस, सपा और बसपा से देश को मुक्त कराने की जरूरत है। यह राष्ट्र गरीब नहीं है। यह आसमान की उंचाई को छू सकता है ,लेकिन दुर्भाग्य से ऐसी सरकारें आयीं जो ऐसा करने में असमर्थ रहीं। भाजपा देश को नई उंचाइयों तक ले जाएगी।
मोदी ने कांग्रेस पर सत्ता में आने पर युवकों को रोजगार मुहैया कराने और महंगाई पर अंकुश लगाने के झूठे वादे करने का आरोप लगाया। उन्होंने कोयला घोटाले को लेकर भी सरकार पर निशाना साधा।
मोदी ने रैली में आए लोगों से सवालिया लहजे में कहा कि क्या आगरा का विकास नही हो सकता? आगरा का विकास इसलिए नहीं हो रहा है क्योंकि दिल्ली में बैठी हुई सरकार की सोच में दम नहीं है। मोदी ने आगे कहा कि सरकार उप्र में मंत्रियों के जिलों में हवाईअड्डे बनवाने को मंजूरी दे सकती है, लेकिन आगरा को पर्यटन के लिहाज से विकसित करने में कठिनाई आ रही है। विकास के नाम पर राज्य और केंद्र सरकार एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप का खेल खेलते रहते हैं। आगरा में पीने का शुद्ध पानी लोगों को नही मिल पा रहा है। यह भी राज्य सरकार की एक नाकामी का हिस्सा है। सपा की सरकार पर निशाना साधते हुए मोदी ने कहा कि लखनऊ में बैठे शासकों को इसकी परवाह नही है कि वह मानवीय आवश्यकताओं की पूर्ति करें।
मोदी ने अपने आलोचकों को करारा जवाब देते हुए कहा कि राजनीतिक पंडित यह सवाल पूछते हैं कि गुजरात का मॉडल अन्य राज्यों में काम नही आएगा। यह सब ओछी मानसिकता का परिचायक है।
कोयला घोटाले की चर्चा करते हुए मोदी ने कहा कि देश का कोयला भी इनके हाथों से नही बच पाया है। उच्चतम न्यायालय ने जब इन पर डंडा चलाया तब इन्होंने कहा कि फाइल ही गुम हो गई है। मोदी ने कहा कि हमें तो लगता है कि फाइल के साथ सरकार ही गुम हो गई है। सरकार ही गुम नहीं हुई है बल्कि आम आदमी की लाईफ भी गुम हो गई है।