सुपरसोनिक मिसाइल ब्रह्मोस का सफल परीक्षण

भारत ने 290 किलोमीटर की दूरी तक मार करने वाली पोत भेदी सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस का कर्नाटक के कारवाड़ तट के पास देश के सबसे बड़े और देश में ही निर्मित युद्धपोत आईएनएस कोलकाता से सफल अभ्यास परीक्षण किया ।

नई दिल्ली : भारत ने 290 किलोमीटर की दूरी तक मार करने वाली पोत भेदी सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस का कर्नाटक के कारवाड़ तट के पास देश के सबसे बड़े और देश में ही निर्मित युद्धपोत आईएनएस कोलकाता से सफल अभ्यास परीक्षण किया ।
मझगांव डॉकयार्डस लिमिटेड निर्मित आईएनएस कोलकाता को अभी औपचारिक रूप से नौसेना में शामिल किया जाना है और एक बार इसके परिचालन में आ जाने के बाद इससे एक साथ 16 ब्रह्मोस मिसाइल दागने की क्षमता नौसेना को मिल जाएगी ।
रक्षा अधिकारियों ने बताया कि मिसाइल का अभ्यास परीक्षण सुबह कारवाड़ अपतटीय क्षेत्र से आईएनएस कोलकाता से किया गया जो परियोजना 15-एल्फा सीरीज के तहत एक नया पोत है । परीक्षण के दौरान सभी मानक हासिल कर लिए गए । उन्होंने कहा कि आईएनएस कोलकाता देश में युद्धपोतों की अपनी तरह की श्रेणी का पहला पोत है और जुलाई में इसे नौसेना में शामिल किए जाने से पहले इसके गहन परीक्षण किए जा रहे हैं । नौसेना रूसी मूल के तलवार श्रेणी के पोतों सहित अपने कई जंगी जहाजों पर पहले ही ब्रह्मोस प्रणाली तैनात कर चुकी है ।

अधिकारियों ने बताया कि मिसाइल को नौसेना के भविष्य के सभी विध्वंसकों और फ्रिगेटों पर तैनात किए जाने की उम्मीद है तथा इसे पनडुब्बियों पर तैनात करने के लिहाज से भी विकसित किया जा रहा है । मिसाइल सेना और वायु सेना में भी शामिल की जा चुकी है तथा इसे एसयू-30 एमकेआई लड़ाकू विमान से दागने के लिए भी तैयार किया जा रहा है ।
वायु सेना में इस हथियार प्रणाली का जमीनी संस्करण भी होगा । सेना ने इसे पूर्वी और पश्चिमी दोनों मोचरें पर पाकिस्तान तथा चीन से लगती सीमाओं पर तैनात किया है । भारत-रूस के संयुक्त उपक्रम ब्रह्मोस एरोस्पेस ने विभिन्न तरह के युद्धों के लिए मिसाइल के विभिन्न संस्करण विकसित किए हैं । वह अब हथियार प्रणाली के अत्यधिक तीव्र गति से मार करने वाले हाइपरसोनिक संस्करण पर काम कर रहा है । (एजेंसी)

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.