सीसैट मुद्दा: सरकार ने छात्रों से की अनशन खत्म करने की अपील

यूपीएससी परीक्षाओं से सीसैट (सीएसएटी) टेस्ट समाप्त किए जाने की मांग को लेकर पिछले 9 दिनों से जारी अनशन को वापस लेने की छात्रों से अपील करते हुए सरकार ने बुधवार को आश्वासन दिया कि वह उनकी मांग पर सहानुभूतिपूर्वक गौर कर रही है और इस पर शीघ्र निर्णय करने की खातिर संबंधित समिति से रिपोर्ट को जल्द से जल्द पेश करने के लिए कहा गया है।

नई दिल्ली : यूपीएससी परीक्षाओं से सीसैट (सीएसएटी) टेस्ट समाप्त किए जाने की मांग को लेकर पिछले 9 दिनों से जारी अनशन को वापस लेने की छात्रों से अपील करते हुए सरकार ने बुधवार को आश्वासन दिया कि वह उनकी मांग पर सहानुभूतिपूर्वक गौर कर रही है और इस पर शीघ्र निर्णय करने की खातिर संबंधित समिति से रिपोर्ट को जल्द से जल्द पेश करने के लिए कहा गया है।

लोकसभा में आज कार्मिक एवं प्रशिक्षण राज्य मंत्री जितेन्द्र सिंह ने कहा कि हमारी सरकार के गठन से पहले इस साल 12 मार्च को पिछली सरकार के समय तीन सदस्यीय एक समिति का गठन किया गया था। लेकिन इसकी रिपोर्ट आना अभी बाकी है और हमने समिति से कहा है कि वह अपने कार्य में तेजी लाए।

उन्होंने कहा कि छात्रों की मांग पर हमें पूरी सहानुभूति है और हमारा भी मानना है कि भाषा के आधार पर कोई भेदभाव नहीं होना चाहिए। अनशन पर बैठे छात्रों से उन्होंने अपील की कि वे अपना अनशन समाप्त करें और स्वयं को शारीरिक तथा मानसिक पीड़ा न पहुंचाएं। सिंह ने आश्वासन दिया कि सरकार पहले ही इस मामले को गंभीरतापूर्वक ले रही है और समिति की रिपोर्ट आने पर उसके अनुरूप कोई निर्णय जल्द किया जाएगा।

सदन में प्रश्नकाल के बाद कांग्रेस, राजद और सपा सदस्यों ने इस मुद्दे को जोरदार ढंग से उठाया और सरकार से कहा कि 9 दिन से छात्र अनशन पर बैठे हैं तथा वह मामले के समाधान के लिए कोई कार्रवाई नहीं कर रही है। इस मुद्दे पर इन दलों के सदस्यों ने कुछ देर आसन के समक्ष आकर नारेबाजी भी की। सिंह ने कल संसद भवन परिसर में कहा था कि यूपीएससी से कहा गया है कि वह 14 अगस्त को होने वाली प्रारंभिक परीक्षा को पाठ्यक्रम तथा परीक्षा की पद्धति स्पष्ट होने तक स्थगित कर दे।