लोकपाल बिल लोकसभा में भी पास, अन्ना ने खुश होकर तोड़ा अनशन

भ्रष्टाचार के खिलाफ लोकपाल का सपना साकार होने के करीब है।

ज़ी मीडिया ब्यूरो
नई दिल्ली: 45 साल से लटका लोकपाल बिल आखिरकार संसद से बुधवार को पास हो गया है। राज्यसभा से पास होने के बाद बुधवार को इसे लोकसभा ने पास कर दिया। लोकपाल बिल को अब राष्ट्रपति के पास भेजा जाएगा और उनके हस्ताक्षर के बाद यह कानून बन जाएगा।
भ्रष्टाचार के खिलाफ कठोर प्रावधानों वाले बहुचर्चित लोकपाल विधेयक का संसद के निचले सदन लोकसभा में बीजेपी और वाम दलों समेत अधिकांश पार्टियों ने समर्थन किया और यह लोकसभा में भी ध्वनिमत से पारित हो गया।
लोकपाल और लोकायुक्त विधेयक, 2011 दो साल से उच्च सदन में लंबित था जिसे कल रात राज्यसभा की मंजूरी मिलने के बाद लोकसभा ने भी आज उस पर अपनी मुहर लगा दी। सपा ने हालांकि इस विधेयक को देश हित के विरूद्ध करार देते हुए चर्चा के दौरान सदन से वाकआउट किया। प्रधानमंत्री के पद कुछ सुरक्षा प्रावधानों के साथ इस कानून के दायरे में लाने के साथ लोकसभा ने विधेयक पर लाये गये सभी सरकारी संशोधनों को ध्वनिमत से स्वीकार कर लिया।
लोकसभा में लोकपाल बिल के पास होने के बाद महाराष्ट्र के रालेगण सिद्धि में अनशन पर बैठे अन्ना हजारे कैंप में जश्न का माहौल देखा गया। लोकपाल बिल के लोकसभा में पास होते ही 9 दिन से अनशन पर बैठे अन्ना हजारे ने कहा है कि लोकपाल बिल का पास होना खुशी की बात है। उन्होंने इसके लिए सेलेक्ट कमेटी को धन्यवाद दिया। बिल के पास होते ही अन्ना हजारे ने नींबू-पानी पीकर अनशन तोड़ दिया है। अन्ना ने 10 दिसंबर को अनशन शुरू किया था और संकल्प लिया था कि संसद के मौजूदा शीतकालीन सत्र में जबतक विधेयक पारित नहीं हो जाता, वह अपना अनशन जारी रखेंगे। 45 साल के बाद लोकपाल बिल लोकसभा में पारित हुआ है।
बीजेपी नेता सुषमा स्वराज ने लोकपाल बिल पर चर्चा के दौरान सरकार पर सदन नहीं चलने देने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि सत्ता पक्ष के सहयोगी ही हंगामा कर रहे हैं। सुषमा ने कहा कि लोकपाल बिल के लिए श्रेय लेने की होड़ नहीं लगनी चाहिए। सुषमा ने कहा कि लोकसभा में लोकपाल बिल का श्रेय सिर्फ अन्ना हजारे को जाता है।
लोकपाल बिल के पास होने पर कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने खुशी जाहिर की और कहा कि इस दिन का 45 साल से इंतजार था। दूसरी तरफ चर्चा के दौरान समाजवादी पार्टी ने इस बिल का विरोध किया है। समाजवादी पार्टी के मुखिया मुलायम सिंह यादव ने लोकपाल बिल को खतरनाक बताया और कहा कि इस बिल से देश का विकास रुक जाएगा। मुलायम ने कहा कि इस बिल को तुरंत वापस लिया जाना चाहिए क्योंकि इससे अराजकता बढ़ेगी।
बहुप्रतीक्षित लोकपाल विधेयक पारित होने के बाद बुधवार को लोकसभा अनिश्चित काल के लिए स्थगित कर दी गई। लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार ने राष्ट्रगान के बाद लोकसभा स्थगित करने की घोषणा की। लोकसभा का शीतकालीन सत्र 20 दिसंबर तक चलना था।