छोटी होगी मोदी की कैबिनेट, जे पी नड्डा बन सकते हैं भाजपा अध्यक्ष

नई सरकार के गठन के बारे में कहा जा रहा है कि भारत के नए प्रधानमंत्री के रूप में नरेन्द्र मोदी 26 मई को अपनी एक ‘‘छोटी और कसी’’ हुई कैबिनेट के साथ पद एवं गोपनीयता की शपथ लेंगे।

नई दिल्ली : नई सरकार के गठन के बारे में कहा जा रहा है कि भारत के नए प्रधानमंत्री के रूप में नरेन्द्र मोदी 26 मई को अपनी एक ‘‘छोटी और कसी’’ हुई कैबिनेट के साथ पद एवं गोपनीयता की शपथ लेंगे।
सूत्रों ने बताया कि मोदी की इस कैबिनेट में भाजपा के कुछ वरिष्ठ नेताओं के साथ राजग के प्रमुख घटक दलों के नेता जगह पा सकते हैं। उन्होंने बताया कि मोदी ने हालांकि इस बारे में अपने विचारों को साझा नहीं किया है कि उनके मंत्रिमंडल में कौन शामिल होंगे। उन्होंने हालांकि अपने विश्वासपात्रों को बताया है कि वह ‘‘छोटी और कसी’’ हुई कैबिनेट पसंद करेंगे।
मोदी ने अपने नजदीकी सहयोगियों से विचार-विमर्श के दौरान कुछ महत्वपूर्ण मंत्रालयों को पुनर्गठन का भी संकेत दिया है जिससे कि उनकी कुछ कमियों को दूर करके उनकी कार्यप्रणाली को प्रभावशाली बनाया जा सके। सूत्रों ने बताया कि मोदी की इच्छा है कि प्रभावशाली कार्यप्रणाली और बेहतर नियंत्रण के लिए कुछ मंत्रालयों का विलय कर दिया जाना चाहिए। इनमें कुछ महत्वपूर्ण वित्तीय एवं वाणिज्य विभाग हैं और कुछ शिक्षा से संबंधित हैं।
इन दिनों यहां गुजरात भवन में ठहरे मोदी ने अपने विश्वासपात्रों से सोमवार को होने जा रहे शपथ समारोह की तैयारियों के बारे में भी चर्चा की। वह आज सुबह अपने करीबी अमित शाह, अनंत कुमार और जे पी नड्डा से मिले। कहा जा रहा है कि राजनाथ सिंह के मंत्रिमंडल में लिए जाने की स्थिति में नड्डा भाजपा अध्यक्ष बन सकते हैं।
बाद में पार्टी के पूर्व अध्यक्ष एम वेंकैया नायडू भी मोदी से मिलने गए। झांसी से लोकसभा चुनाव जीतने वाली उमा भारती भी मोदी से मिलीं। मोदी राजग के कुछ सहयोगी दलों के नेताओं से भी मिले, जिनमें आरपीआई के प्रमुख रामदास अठावले शामिल हैं।
उधर, राजनाथ सिंह के निवास पर भी उनसे मिलने वालों का तांता लगा रहा। सोमवार की शाम को राष्ट्रपति भवन के प्रांगण में होने जा रहे मोदी के शपथ ग्रहण समारोह की तैयारियां जोर शोर से चल रही हैं।
राजग में कुछ समय पहले शामिल हुए लोजपा नेता रामविलास पासवान और उनके पुत्र चिराग भाजपा अध्यक्ष से मिले। ये दोनों लोकसभा चुनाव में विजयी रहे हैं। पासवान अपने पार्टी के लिए मंत्रिमंडल में एक कैबिनेट रैंक और एक राज्य मंत्री की उम्मीद कर रहे हैं।
अपना दल की नेता अनुप्रिया पटेल भी राजनाथ से मिलने उनके निवास गई। उत्तर प्रदेश से दो सीट जीतने वाला अपना दल मंत्रिमंडल में स्थान पाने का प्रयास कर रहा है। राजनाथ सिंह ने राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ के वरिष्ठ नेता सुरेश सोनी और अन्य सहयोगी दलों के कुछ नेताओं से भी भेंट की।
उनसे आज मिलने वालों में मेनका गांधी, उदित राज और विजय गोयल शामिल हैं। राजनाथ से भाजपा के महासचिव रामलाल और जे पी नड्डा ने भी मुलाकात की। (एजेंसी)