Zee Rozgar Samachar

धर्म संसद में भिड़े शंकराचार्य और साई बाबा के अनुयायी

छत्तीसगढ़ के कवर्घा में सोमवार को आयोजत धर्म संसद के दौरान शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती और शिरडी के साई बाबा के अनुयायी एक-दूसरे से भिड़ गए।

धर्म संसद में भिड़े शंकराचार्य और साई बाबा के अनुयायी

ज़ी मीडिया ब्यूरो

रायपुर : छत्तीसगढ़ के कवर्घा में सोमवार को आयोजत धर्म संसद के दौरान शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती और शिरडी के साई बाबा के अनुयायी एक-दूसरे से भिड़ गए।

रिपोर्टों के मुताबिक दो साई के अनुयायी धर्मसंसद के आयोजन स्थल पर पहुंचे। साईं के समर्थक साई पर होने वाली चर्चा पर अपने विचार रखने आए थे और उन्होंने शंकराचार्य को लेकर सवाल किए। इस पर शंकराचार्य के अनुयायी भड़क गए।  

रिपोर्टों के मुताबिक धर्म संसद में थोड़ी देर पहले गुजरात और दिल्ली से आए साई भक्त के साथ अखाड़ा प्रमुख ने बदसलूकी की। 13 अखाड़ा के प्रमुखों ने उनके साथ धक्का-मुक्की करते हुए उन्हें मंच से उतार दिया। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार साई की सत्यता के लिए आयोजित धर्म संसद में साई का पक्ष रखने के लिए धर्मसंसद में गुजरात अहमदाबाद से स्वामी मनुष्य मित्र और दिल्ली से अशोक कुमार पहुंचे थे। जब वे साई के पक्ष में अपनी बातें रख रहे थे, इसी दौरान उनके साथ बदसलूकी की गई, लेकिन बाद में फिर उन्हें मंच पर बुलाया गया।

साई भक्त का कहना है कि मैं साई को मानता हूं। साई ने कभी नहीं कहा है कि वे हिन्दू थे या मुस्लिम थे। उन्होंने खुद को सरहद में नहीं बांधा था। साई कहते थे कि मानवता ही उनका धर्म है और उनकी इन्हीं बातों को मैं मानता हूं। भक्त ने संसद में बैठे सभी अखाड़ा प्रमुख और साधु-संत और शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती को कहा कि मैं मानता हूं कि आपकी कुछ बातें सही है। कुछ लोग साई के नाम पर चंदा और चढ़ावा का व्यापार बना लिए है। ये बातें जरूर गलत है। साई तो सिर्फ प्यार के भूखे हैं। गौरतलब है कि भक्त की बातें सुनने के बाद धर्म संसद की चर्चा फिर से यथावत जारी है।

 

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.