मोदी का पोस्‍टर हटाने को लेकर कांग्रेस प्रत्‍याशी मधुसूदन मिस्‍त्री गिरफ्तार, बाद में जमानत पर रिहा

लोकसभा चुनाव के मद्देनजर गुजरात के वडोदरा में अब पोस्‍टर वार शुरू हो गया है। एक अप्रत्‍याशित घटनाक्रम के तहत वडोदरा से कांग्रेस उम्‍मीदवार मधुसूदन मिस्‍त्री को गुरुवार को बीजेपी के प्रधानमंत्री पद के उम्‍मीदवार नरेंद्र मोदी का पोस्‍टर हटाने को लेकर पुलिस ने उन्‍हें गिरफ्तार कर लिया।

ज़ी मीडिया ब्‍यूरो

वडोदरा : लोकसभा चुनाव के मद्देनजर गुजरात के वडोदरा में अब पोस्‍टर वार शुरू हो गया है। एक अप्रत्‍याशित घटनाक्रम के तहत वडोदरा से कांग्रेस उम्‍मीदवार मधुसूदन मिस्‍त्री को गुरुवार को बीजेपी के प्रधानमंत्री पद के उम्‍मीदवार नरेंद्र मोदी का पोस्‍टर हटाने को लेकर पुलिस ने उन्‍हें गिरफ्तार कर लिया। हालांकि बाद में उन्‍हें जमानत मिल गई और रिहा कर दिया गया।
जानकारी के अनुसार, वडोदरा के डांडिया बाजार में विज्ञापन कियोस्क पर अपने प्रतिद्वंद्वियों के बैनरों पर अपने पोस्टर लगाने की कोशिश करने पर मधुसूदन मिस्त्री और अन्य पार्टी कार्यकर्ताओं को पुलिस ने हिरासत में लिया। मिस्त्री को कांग्रेस ने वडोदरा से नरेंद्र मोदी के खिलाफ अपना उम्मीदवार बनाया है।
वडोदरा के डीसीपी दीपांकर त्रिवेदी ने कहा कि मिस्त्री और अन्य कांग्रेस कार्यकर्ताओं को उस समय गिरफ्तार किया गया, जब उन्होंने सड़क के डिवाइडर पर लगे बिजली के खंभे पर बने विज्ञापन कियोस्क पर अपने पोस्टर लगाने की कोशिश की। इससे पहले वडोदरा से कांग्रेस के उम्मीदवार रहे नरेंद्र रावत, वडोदरा नगर निगम में नेता प्रतिपक्ष चंद्रकांत कस्तूर को भी मिस्त्री और अन्य पार्टी कार्यकर्तााओं के साथ हिरासत में लिया गया। रावत की उम्मीदवारी उस समय वापस ले ली गई थी जब भाजपा ने नरेंद्र मोदी को वडोदरा से चुनाव में उतारने की घोषणा की थी।
त्रिवेदी ने कहा कि मिस्त्री या अन्य किसी कांग्रेसी नेता ने कार्यक्रम की अनुमति नहीं ली थी। उन्होंने कहा कि इस घटना की वीडियोग्राफी देखकर इस मामले में आगे कार्रवाई की जाएगी। कांग्रेस के एक कार्यकर्ता ने कहा कि मिस्त्री ने सड़क पर बने डिवाइडर पर लगे खंभे पर चढ़ने की कोशिश की ताकि नरेंद्र मोदी के पोस्टर पर अपना पोस्टर लगा सकें लेकिन पुलिस ने उन्हें ऐसा करने से रोक दिया। उन्होंने कहा कि पुलिस ने उनसे उनकी वह सीढ़ी भी ले ली जिसका इस्तेमाल वह मोदी के पोस्टर पर दूसरा पोस्टर लगाने के लिए कर रहे थे।
मिस्त्री ने आरोप लगाया कि पुलिस और जिला प्रशासन पक्षपाती तरीके से काम कर रहे थे और उन्होंने शहर की सड़कों पर लगे विज्ञापन कियोस्क में उनके पोस्टर लगाने से रोका। मिस्त्री ने कहा कि जब पुलिसकर्मी उनके पास आया तो उन्होंने उससे उसका पहचान पत्र मांगा लेकिन उसने दिखाने से इंकार कर दिया। इससे पहले मिस्त्री कांग्रेस के दूसरे कार्यकर्ताओं के साथ मिलकर वडोदरा शहर के डांडिया बाजार इलाके में कांग्रेस कार्यालय में धरने पर बैठ गए। कांग्रेस की महिला कार्यकर्ताओं ने भी आरोप लगाया कि पुलिस ने उन्हें पीटा और इस खींचतान में उनके ‘मंगलसूत्र’ लूट लिए गए। उन्होंने कहा कि जब उन्हें हिरासत में लिया जा रहा था तो उनकी चूड़ियां टूट गईं। मिस्त्री ने कल आरोप लगाया था कि सड़कों पर लगे विज्ञापन कियोस्क आवंटन करने में प्रशासन ने पक्षपात किया है। इनपर मोदी के पोस्टर ही प्राथमिकता से लगाए गए हैं।
अखिल भारतीय कांग्रेस समिति के महासचिव ने बुधवार को धमकी दी थी कि यदि वडोदरा जिला निर्वाचन अधिकारी और नगर निगम उप आयुक्त (प्रशासन) सुबह दस बजे तक कियोस्क से मोदी के पोस्टर हटाने में विफल रहता है तो वे मोदी के पोस्टरों पर अपने पोस्टर लगा देंगे।