close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सर्बिया से खेलने के लिए अनुभव जरूरी : बोपन्ना

युगल विशेषज्ञ टेनिस खिलाड़ी रोहन बोपन्ना का मानना है कि घरेलू डेविस कप मुकाबले में भी सर्बिया का सामना करना बड़ी चुनौती है और दुनिया की नंबर दो टीम के खिलाफ भारत को अधिकतम अनुभव की जरूरत पड़ेगी।

नई दिल्ली : युगल विशेषज्ञ टेनिस खिलाड़ी रोहन बोपन्ना का मानना है कि घरेलू डेविस कप मुकाबले में भी सर्बिया का सामना करना बड़ी चुनौती है और दुनिया की नंबर दो टीम के खिलाफ भारत को अधिकतम अनुभव की जरूरत पड़ेगी।
हाल ही में डेविस कप मैचों में भारत को युवा ब्रिगेड ने जीत दिलाई है जिसकी अगुवाई सोमदेव देववर्मन ने की। डेविड कप में लगातार 23 मैच जीत चुके लिएंडर पेस और महेश भूपति ने सितंबर में होने वाले इस मुकाबले के लिये खुद को उपलब्ध बताया है। भूपति 2011 के बाद से डेविस कप टीम से बाहर हैं जबकि निजी परेशानियों से जूझ रहे पेस ने पहले खुद को चयन के लिये उपलब्ध नहीं बताया था लेकिन बाद में फैसला बदल लिया।
बोपन्ना ने कहा, ‘हमारा सामना दुनिया की नंबर दो टीम से है। घरेलू मुकाबला होने के बावजूद यह कठिन होगा लिहाजा हमें अपनी सर्वश्रेष्ठ टीम उतारनी होगी। हमें अधिकतम अनुभव की जरूरत है।’ सर्बियाई टीम में दुनिया के नंबर दो खिलाड़ी और कई ग्रैंडस्लैम जीत चुके नोवाक जोकोविच शामिल है। यांको टिपसारेविच हालांकि एड़ी के आपरेशन के कारण खेलने की स्थिति में नहीं हैं। रैंकिंग के आधार पर भूपति का चयन मुश्किल है क्योंकि वह बोपन्ना और पेस से नीचे हैं।
बोपन्ना और सोमदेव ने विश्व ग्रुप प्लेआफ मुकाबला बेंगलुरु में कराने का सुझाव दिया था क्योंकि वहां का कोर्ट मध्यम तेज है जिस पर सर्बियाई खिलाड़ियों को परेशानी हो सकती है। यह पूछने पर कि क्या बेंगलुरु चुनने की यही एक वजह थी, बोपन्ना ने कहा कि दूसरे कारण भी थे। उन्होंने कहा, ‘मध्यम तेज कोर्ट एक कारण है। दूसरा कारण हालात है। चूंकि सभी खिलाड़ियों ने बेंगलुरु में अभ्यास किया है लिहाजा वे हालात से वाकिफ हैं। हमें लगा कि इससे हमें फायदा मिल सकता है।’
बोपन्ना ने कहा, ‘आसपास के हालात, मौसम और कोर्ट से वाकिफ होने से काफी फायदा मिलता है। इंडोनेशिया में मैं टीम का हिस्सा नहीं था लेकिन मुझे खुशी है कि बेंगलुरु में वापसी करूंगा। उम्मीद है कि स्टेडियम खचाखच भरा होगा।’ युगल में बोपन्ना और साकेत मायनेनी ने चीनी ताइपै और कोरिया के खिलाफ जीत दर्ज की है। मायनेनी के खेल के बारे में पूछने पर बोपन्ना ने कहा, ‘वह तेजी से निखर रहा है। फिलहाल वह चैलेंजर्स खेल रहा है जो आगे जाने का सकी रास्ता है। इससे उसका आत्मविश्वास भी बढ़ेगा और उसे अनुभव भी मिलेगा।’ (एजेंसी)