राइडर और ब्रेसवेल के बीच बार में हाथापाई, टीम से बाहर

ऑकलैंड के एक बार में हाथापाई करने के लिए जांच का सामना कर रहे न्यूजीलैंड के तुनकमिजाज बल्लेबाज जेसी राइडर और मध्यम गति के गेंदबाज डग ब्रेसवेल को भारत के खिलाफ 14 फरवरी से शुरू होने वाले दूसरे टेस्ट क्रिकेट मैच की टीम में नहीं चुना जाएगा।

ऑकलैंड : ऑकलैंड के एक बार में हाथापाई करने के लिए जांच का सामना कर रहे न्यूजीलैंड के तुनकमिजाज बल्लेबाज जेसी राइडर और मध्यम गति के गेंदबाज डग ब्रेसवेल को भारत के खिलाफ 14 फरवरी से शुरू होने वाले दूसरे टेस्ट क्रिकेट मैच की टीम में नहीं चुना जाएगा। भारत के खिलाफ आकलैंड में पहले टेस्ट मैच से पूर्व ये दोनों खिलाड़ी आकलैंड के बार में एक दूसरे से भिड़ गये थे जिसके कारण उन्हें चोटें आयी हैं। रिपोर्ट के अनुसार दोनों ने स्वीकार किया है कि वह इस झगड़े में शामिल थे। शराब की अपनी लत के कारण पहले भी परेशानियों में पड़े राइडर और ब्रेसवेल को इस झगड़े के कारण जांच का सामना करना पड़ रहा है।
न्यूजीलैंड के कोच माइक हैसन ने कहा, हम दूसरे टेस्ट मैच के लिये कल या आज शाम को टीम का चयन करेंगे तथा जेसी राइडर और डग ब्रेसवेल के नाम पर विचार नहीं किया जाएगा। इस झगड़े में ब्रेसवेल के पांव की हड्डी टूट गयी जबकि रिपोटरें के अनुसार राइडर के हाथ में चोट लगी है। इसके कारणों का अभी तक पता नहीं चला है। ये दोनों खिलाड़ी न्यूजीलैंड की अंतिम एकादश में शामिल नहीं थे लेकिन किसी खिलाड़ी के चोटिल होने की दशा में उन्हें कवर के रूप में टीम में रखा गया था। न्यूजीलैंड ने यह मैच 40 रन से जीता। हैसन ने कहा, जांच चल रही है तथा पूरी जानकारी और तथ्य हासिल होने के बाद ही हम बयान जारी करने की बेहतर स्थिति में रहेंगे। जब तक सभी तथ्य पता नहीं है तब तक समाधान नहीं निकाला जा सकता है। हमें यह सुनिश्चित करने की जरूरत है कि सभी खिलाड़ी अभी टेस्ट क्रिकेट के लिये खुद को तैयार करें।
हैसन ने कहा कि उन्हें इन दोनों खिलाड़ियों पर भरोसा है और वह उस रात की घटनाओं का पूरे ब्यौरे का इंतजार कर रहे हैं। उन्होंने कहा, हमें अपने खिलाड़ियों पर भरोसा है कि वे अपनी तैयारियों को लेकर सही फैसले करेंगे। हम वयस्क पुरूषों के साथ काम कर रहे हैं और यदि कोई खिलाड़ी मैच से पहले अपने भोजन के साथ बीयर लेता है तो यह हमारे लिये कोई मसला नहीं है। यह पहला अवसर नहीं है जबकि राइडर और ब्रेसवेल विवादों के केंद्र में रहे हैं। इससे पहले 2012 में भी उन्हें टीम की आचार संहिता के उल्लंघन के लिये वनडे टीम से बाहर कर दिया गया था। राइडर को तो बीच में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से ब्रेक भी लेना पड़ा और उन्होंने पिछले साल ही वापसी की थी। उनकी वापसी भी अच्छी नहीं रही क्योंकि बार के बाहर झगड़े में वह चोटिल हो गये और उनकी जान खतरे में पड़ गयी थी। पिछले साल अगस्त में राइडर को घरेलू क्रिकेट में नियमित ड्रग परीक्षण में नाकाम रहने के कारण छह महीने के लिये प्रतिबंधित किया गया था। (एजेंसी)