close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

IPL के जरिए टीम में वापसी करना चाहते हैं सहवाग

खराब फार्म में चल रहे आक्रामक सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग आईपीएल सात में अच्छे प्रदर्शन के जरिए भारतीय टीम में वापसी करना चाहते हैं और उन्हें यकीन है कि उनके भीतर अभी क्रिकेट के दो तीन साल बाकी हैं।

नई दिल्ली : खराब फार्म में चल रहे आक्रामक सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग आईपीएल सात में अच्छे प्रदर्शन के जरिए भारतीय टीम में वापसी करना चाहते हैं और उन्हें यकीन है कि उनके भीतर अभी क्रिकेट के दो तीन साल बाकी हैं।
सहवाग ने कहा, ‘हर खिलाड़ी के कैरियर में अच्छा और खराब दौर आता है। एक शतक जमाने पर मीडिया तारीफों के पुल बांधने लगता है और एक या दो खराब पारी के बाद आलोचना करने लगता है। खिलाड़ी को फार्म में लौटने के लिए समय देना चाहिए।’ भारतीय टीम में वापसी के बारे में पूछने पर उन्होंने कहा, ‘पिछले कुछ अर्से से मेरे रन नहीं बन रहे थे लेकिन मुझे यकीन है कि आईपीएल में अच्छा प्रदर्शन करके मैं वापसी कर सकूंगा। हर मैच एक मौके की तरह होता है और मैं नई टीम (किंग्स इलेवन पंजाब) के साथ जुड़कर काफी रोमांचित महसूस कर रहा हूं।’
दस बरस पहले आज ही के दिन मुल्तान टेस्ट में पाकिस्तान के खिलाफ तिहरा शतक जड़ने वाले इस बल्लेबाज ने हाल ही में अबुधाबी में चैम्पियन काउंटी टेस्ट मैच में डरहम के खिलाफ एमसीसी के लिये 97 गेंद में 109 रन बनाए थे। यह पूछने पर कि क्या इस पारी से उनका खोया आत्मविश्वास लौटा, उन्होंने कहा कि उनका मनोबल कभी गिरा नहीं था।
उन्होंने यहां अंडर 14 क्रिकेटरों के लिए ‘डेरी बेस्ट क्रिकेट लीग’ के लांच से इतर पत्रकारों से कहा, ‘जब मेरे रन नहीं बन रहे थे, तब भी मेरा आत्मविश्वास और मनोबल गिरा नहीं था। मुझे यकीन है कि मेरे भीतर अभी 2-3 साल का क्रिकेट बाकी है और मैं वापसी करूंगा।’
आईपीएल स्पाट फिक्सिंग मामले में उच्चतम न्यायालय के फैसले पर कोई टिप्पणी करने से उन्होंने इनकार कर दिया। बांग्लादेश में चल रहे टी20 विश्व कप में भारत को खिताब का सबसे प्रबल दावेदार बताते हुए उन्होंने कहा कि उपमहाद्वीप में टूर्नामेंट होने का भारत को फायदा मिलेगा।
उन्होंने कहा, ‘सबसे बड़ा फायदा यह है कि टूर्नामेंट उपमहाद्वीप में हो रहा है। बांग्लादेश के हालात से हम वाकिफ हैं और हमारे सभी खिलाड़ी आईपीएल खेलते हैं जिससे टी20 की हमारी तैयारी बेहतर है।’ सहवाग ने खराब दौर से जूझ रहे युवराज सिंह को मैच विनर बताते हुए कहा कि एक या दो अच्छी पारियों से उनका खोया फार्म लौट आएगा।
उन्होंने कहा, ‘युवराज अकेले दम पर मैच जिताने में माहिर है। कैंसर से उबरने के बाद उन्होंने आस्ट्रेलिया के खिलाफ मैच जिताया था। उनकी प्रतिभा किसी से छिपी नहीं है लेकिन उन्हें समय देने की जरूरत है। मुझे उम्मीद है कि वह टूर्नामेंट में सेमीफाइनल या फाइनल में मैच जिताऊ पारी खेलेंगे।’ तीन में से दो मैचों में मैन आफ द मैच पुरस्कार जीत चुके लेग स्पिनर अमित मिश्रा की तारीफ करते हुए सहवाग ने कहा कि उसका इंतजार रंग लाया।
उन्होंने कहा, ‘अमित अच्छा गेंदबाज है और उसने मौके का इंतजार किया। मौका मिलने पर उसे भुनाया। टी20 में एक ओवर मैच का पासा पलट सकता है और वह उम्दा प्रदर्शन कर रहा है।’ दस साल पहले मुल्तान में जड़े अपने तिहरे शतक को याद करते हुए सहवाग ने कहा कि दूसरे छोर पर सचिन तेंदुलकर के होने से उन्हें काफी मदद मिली। उन्होंने कहा, ‘मुझे उम्मीद नहीं थी कि मैं तिहरा शतक जड़ने वाला पहला भारतीय बनूंगा। मुझे पता भी नहीं था कि मुझसे पहले किसी ने तिहरा शतक नहीं बनाया है। मेरे साथ सचिन बल्लेबाजी कर रहे थे और 290 के पार पहुंचने पर उन्होंने मुझसे कहा कि अब छक्का लगाने की कोशिश मत करना। उनके रहने से मुझे काफी मदद मिली।’
उन्होंने कहा, ‘हर साल मैं अपने शतक की वषर्गांठ मनाता हूं और इस साल तो एक दशक पूरा हो गया तो आज भी परिवार के साथ इसे सेलिब्रेट करूंगा।’ यह पूछने पर कि मौजूदा भारतीय बल्लेबाजों में से कौन टेस्ट क्रिकेट में तिहरा शतक जड़ सकता है, उन्होंने कहा,‘तिहरे शतक के लिए समय और काफी संयम चाहिए। मुझे लगता है कि चेतेश्वर पुजारा, विराट कोहली और रोहित शर्मा यह कर सकते हैं चूंकि वे मध्यक्रम में खेलते हैं।’ (एजेंसी)