दिल्ली विस चुनाव : शीला दीक्षित और डॉ. हर्षवर्धन ने भरे अपने-अपने पर्चे

दिल्ली की मुख्यमंत्री कांग्रेस की मुख्यमंत्री की उम्मीदवार शीला दीक्षित ने नई दिल्ली विधानसभा क्षेत्र से अपना नामांकन पत्र दाखिल किया और विश्वास जताया कि कांग्रेस रिकार्ड चौथी बार सत्ता में बनी रहेगी। दूसरी तरफ मुख्यमंत्री पद के भाजपा उम्मीदवार हर्षवर्धन ने भी कृष्णानगर विधानसभा क्षेत्र से पर्चा भरा।

ज़ी मीडिया ब्यूरो
नई दिल्ली : दिल्ली की मुख्यमंत्री कांग्रेस की मुख्यमंत्री की उम्मीदवार शीला दीक्षित ने नई दिल्ली विधानसभा क्षेत्र से अपना नामांकन पत्र दाखिल किया और विश्वास जताया कि कांग्रेस रिकार्ड चौथी बार सत्ता में बनी रहेगी। दूसरी तरफ मुख्यमंत्री पद के भाजपा उम्मीदवार हर्षवर्धन ने भी कृष्णानगर विधानसभा क्षेत्र से पर्चा भरा।
75 वर्षीय शीला दीक्षित अपने सांसद बेटे संदीप दीक्षित और बेटी लतिका के साथ नामांकन पत्र दाखिल करने पहुंची। उन्होंने यहां जामनगर हाउस में निर्वाचन अधिकारी संजीव गुप्ता के सामने पर्चा भरा। इस मौके पर बड़ी संख्या में कार्यकर्ता शाहजहां रोड पर एसडीएम कार्यालय के समक्ष एकत्र हो गए और उन्होंने दीक्षित तथा कांग्रेस के पक्ष में नारेबाजी की।
दीक्षित ने नामांकन पत्र भरने के बाद संवाददाताओं से कहा, ‘मुझे विश्वास है कि कांग्रेस दिल्ली में सत्ता में बनी रहेगी।’ दीक्षित को अपने निर्वाचन क्षेत्र में त्रिकोणीय मुकाबले का सामना करना पड़ेगा जहां से भाजपा ने अपने पूर्व पार्टी ईकाई प्रमुख विजेन्द्र गुप्ता तथा आप प्रमुख अरविंद केजरीवाल मैदान में हैं। दीक्षित 1998 से नई दिल्ली का प्रतिनिधित्व कर रही हैं।
मुख्यमंत्री पद के भाजपा के उम्मीदवार हर्षवर्धन ने भी कृष्णानगर विधानसभा क्षेत्र से पर्चा भरा। हर्षवर्धन ने पूर्वी दिल्ली में गीता कालोनी स्थित उपायुक्त कार्यालय में अपना नामांकन पत्र दाखिल किया। उनके साथ दिल्ली भाजपा अध्यक्ष विजय गोयल, वरिष्ठ पार्टी नेता वीके मल्होत्रा और बड़ी संख्या में भाजपा कार्यकर्ता मौजूद थे।
इस मौके पर हर्षवर्धन ने संवाददाताओं से कहा कि मुकाबला भाजपा और कांग्रेस के बीच होगा। उन्होंने कहा कि चुनावी मैदान में आम आदमी पार्टी कोई गंभीर खिलाड़ी नहीं है। बुधवार तक कुल 89 उम्मीदवार पर्चा दाखिल कर चुके हैं। 16 नवंबर नामांकन दाखिल करने की अंतिम तारीख है।