`सजा सुनाये जाने के बाद लालू यादव शांत रहे`

करोड़ों रुपये के चारा घोटाले के एक मामले में बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल के अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव कल सजा सुनाये जाने के बाद विचलित नहीं दिखे और शांत रहे ।

रांची : करोड़ों रुपये के चारा घोटाले के एक मामले में बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल के अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव कल सजा सुनाये जाने के बाद विचलित नहीं दिखे और शांत रहे । रांची स्थित बिरसा मुंडा केन्द्रीय कारागार के जेल अधीक्षक वीरेन्द्र कुमार ने बताया कि कल दोपहर जब सीबीआई के विशेष न्यायाधीश प्रवास कुमार सिंह ने कचहरी में ई-अदालत से जेल परिसर में वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव को चारा घोटाले के एक मामले में पांच वर्ष के कठोर कारावास ओर 25 लाख रुपये के जुर्माने की सजा सुनायी तो वह विचलित नहीं हुए ।
उन्होंने बताया कि लालू सजा सुनाये जाने के समय बिलकुल शांत रहे और उनकी भाव भंगिमा कोई विशेष बदली नहीं। इस बात से लालू, जगन्नाथ मिश्र समेत सभी 37 अभियुक्तों को तीन वर्ष से अधिक की कैद की सजा की आशंका पहले से ही थी। यही कारण है जिसके चलते शायद लालू प्रसाद यादव ने पांच वर्ष के कठोर कारावास की सजा सुनाये जाने पर कोई विशेष प्रतिक्रिया नहीं दी।
यह अवश्य है कि लालू यादव ने वीडियोकांफ्रेंसिंग के जरिये ही न्यायाधीश से कल कहा था कि हुजूर हमारे साथ इंसाफ नहीं हुआ। मैं निर्दोष था और मैंने ही पूरे मामले में प्राथमिकी दर्ज करने के निर्देश दिये थे और मुझे ही सजा दे दी गयी। आखिर मुझे किस बात की सजा दी गयी। (एजेंसी)