close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

अब हमें भी सीखना होगा ‘मैनेजमेंट’: अखिलेश यादव

दंगा प्रभावित मुजफ्फरनगर में खराब हालात के बीच सैंफई महोत्सव के आयोजन की मीडिया में तीखी आलोचना से विचलित उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने शुक्रवार को कहा कि वह (मीडिया) समाजवादी पार्टी (सपा) सरकार की सिर्फ बुराई देखता है और इस स्थिति से निपटने के लिये अब उन्हें भी ‘मैनेजमेंट’ सीखना होगा।

लखनऊ : दंगा प्रभावित मुजफ्फरनगर में खराब हालात के बीच सैंफई महोत्सव के आयोजन की मीडिया में तीखी आलोचना से विचलित उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने शुक्रवार को कहा कि वह (मीडिया) समाजवादी पार्टी (सपा) सरकार की सिर्फ बुराई देखता है और इस स्थिति से निपटने के लिये अब उन्हें भी ‘मैनेजमेंट’ सीखना होगा।
मुख्यमंत्री ने गर्भवती महिलाओं के लिये स्वास्थ्य विभाग की ‘102 एम्बुलेंस सेवा’ का उद्घाटन करने के बाद कहा कि प्रदेश में बिना किसी भेदभाव के बड़े पैमाने पर विकास एवं कल्याणकारी काम किए जा रहे हैं लेकिन हमारे अच्छे कामों में भी बुराइयां ढूंढी जाती हैं। हम समाजवादियों को भी कुछ मैनेजमेंट करना पड़ेगा।
किसी का नाम लिये बगैर उन्होंने कहा कि हमारे तमाम साथी लोग हर पहलू पर राजनीति करना चाहते हैं। मैनेजमेंट का जमाना है, हम भी मैनेजमेंट करेंगे। हम एक दिन नाराज हो गये तो कहा कि हम हिटलर हो गए। अखिलेश ने कहा कि समाजवादी लोग काम करने में आगे हैं मगर प्रचार में पीछे हैं। जहां इतने बड़े पैमाने पर लैपटाप दिया वह बाकी राज्य पांच साल में दे सकेंगे। विद्या धन इतने बड़े पैमाने पर कहीं नहीं दिया जा रहा है। बिना किसी भेदभाव के इतने बड़े पैमाने पर काम हो रहा है, लेकिन सपा प्रचार में पीछे है।
उन्होंने कहा कि आरोप लगा कि सपा केवल मुसलमानों की पार्टी है। उच्चतम न्यायालय ने भी पूछ लिया। हमने जवाब दिया। हर वर्ग की बराबर की भरपाई की अब उन्हीं लोगों के तेवर बदल गये। राहत शिविरों में तकलीफ की बात की गई। 102 एम्बुलेंस सेवा को स्वास्थ्य सेवाओं को विस्तार देने की दिशा में महत्वपूर्ण कदम करार देते हुए अखिलेश ने कहा कि इस सेवा से वह मां-बच्चे को नि:शुल्क मदद मिलेगी। अखिलेश ने कहा कि 102 सेवा की एम्बुलेंस प्रसूता को ना केवल अस्पताल तक ले जाएगी बल्कि मां-बच्चे को घर तक पहुंचाएगी। बीच में अगर कभी जरूरत पड़ी तो भी वह मदद करेगी। इस योजना के जरिये 30 दिन तक मां-बच्चे की मदद होगी। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग की सराहना करते हुए कहा कि सरकार से ‘लेटर आफ इंटेट’ मिलने के 15 दिन के अंदर ही 102 योजना शुरू कर दी गयी। इससे ना सिर्फ चिकित्सीय मदद मिल रही है बल्कि लोगों को रोजगार भी मिला। पहले से ही संचालित 108 सेवा और आज शुरू हुई 102 सेवा से कुल 15 हजार लोगों को रोजगार मिलेगा। (एजेंसी)