चीन में भूकंप से भारी तबाही, 400 लोगों की मौत, राहत-बचाव कार्य तेज

चीन ने भूकंप प्रभावित अपने दक्षिणपश्चिमी प्रांत युन्नान में आज हजारों सैनिक, पुलिस एवं दमकलकर्मी और आठ विमान भेजे। प्रांत में आए 6.5 तीव्रता के तेज भूकंप से भारी तबाही हुई है और करीब 400 लोग मारे गए हैं।

चीन में भूकंप से भारी तबाही, 400 लोगों की मौत, राहत-बचाव कार्य तेज

बीजिंग : चीन में पिछले 100 साल के इतिहास में पहली बार भीषण तबाही मचाने वाले भूकंप में मरने वालों की संख्या बढ़कर करीब 400 तक पहुंच गई है और भूकंप से बर्बाद हुए युन्नान प्रांत में हजारों सैनिकों, पुलिस तथा दमकलकर्मियों को जिंदा बचे लोगों को जल्द से जल्द निकालने के लिए तैनात किया गया है।

रविवार को आए भूकंप में मरने वालों की संख्या 398 हो गयी है और कई लोग अभी भी लापता हैं। प्रशासन ने मलबे के पहाड़ के नीचे दबे जिंदा लोगों को तलाशने के लिए 11 हजार पुलिसकर्मियों तथा दमकलकर्मियों, सात हजार से अधिक सैनिकों और सशस्त्र पुलिस को इलाके में भेजा है। इस पहाड़ी इलाके में बचावकर्मी जिंदा बचे लोगों की तलाश में जुटे हैं।

इलाके में जरूरी सामग्री तथा घायलों को अस्पतालों में ले जाने के लिए आठ विमान तथा सात हेलिकाप्टरों को भेजा गया है। भूकंप से झाओतोंग शहर और कुजिंग शहर में करीब 10.8 लाख अन्य प्रभावित हुए हैं जिनमें करीब 1,801 घायल शामिल हैं।

युन्नान के नागरिक मामलों के विभाग ने कहा कि भूकंप की वजह से करीब 2,30,000 लोगों को आपात रूप से बाहर निकाला गया। विभाग ने कहा कि भूकंप से करीब 80,000 मकान गिर गए और 1,24,000 अन्य गंभीर रूप से क्षतिग्रस्त हो गए। भूकंप का केंद्र लुदियान काउंटी के लोंगटाउशान में जमीन से 12 किलोमीटर की गहराई पर था।

प्रधानमंत्री ली क्विंग राहत कार्य की देखरेख के लिए भूकंप प्रभावित इलाकों में पहुंच गए हैं। प्रधानमंत्री भूकंप के केंद्र लोंगटाउशान टाउनशिप में पहुंच गए हैं। उन्होंने कहा, ‘लोगों की जान बचाना शीर्ष प्राथमिकता है। रूको मत। कोई कसर बाकी मत छोड़ो।’ युन्नान ने झाओतोंग और कुजिंग शहरों के भूकंप प्रभावित इलाकों में 5,000 सैनिकों, पुलिस अधिकारियों और दमकलकर्मियों समेत 7,000 बचावकर्मी भेजे हैं।

विभाग ने बताया कि 25,500 घरों के करीब 80 हजार कमरे भूकंप के कारण जमींदोज हो गए और 39, 200 घरों के 1.24 लाख घर बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गए। लुडियान काउंटी में सर्वाधिक तबाही मची है जहां 319 और उसके बाद क्वायोजिया काउंटी में 66, झाओयांग जिले में एक और हुईज काउंटी में 12 लोग मारे गए हैं। उधर, राहत और बचावकर्मी जिंदा बचे लोगों की तलाश में दिन रात एक किए हुए हैं। उन्होंने कल लोंगटोउशान टाउनशिप में आज सुबह मलबे में दबे एक पांच वर्षीय बच्चे को निकाला। यह इलाका भूकंप से सर्वाधिक प्रभावित हुआ है।

इस बच्चे के पैरों पर चोट आयी थी और उसे तुरंत चिकित्सा सहायता मुहैया करायी गयी। एक पैरामिल्रिटी अधिकारी ली जिन ने बताया, ‘हमने लोंगटोउशान में एक महिला और एक व्यक्ति को सफलतापूर्वक निकाल लिया।’ राहत कार्य लगातार जारी बारिश से बाधित हो रहा है जिसकी वजह से यातायात प्रभावित हुआ है, दूरदराज के इलाके में तापमान नीचे गिर गया है और भोजन एवं दवाओं की कमी और बढ़ गयी है।

सर्वाधिक प्रभावित इलाकों में शामिल लुडियान काउंटी में अगले चार दिनों में गरज के साथ बारिश के होने की संभावना है और रात का तापमान गिरकर 17 डिग्री सेंटीग्रेड हो सकता है। बचावकर्ता हुईज काउंटी के झिजियांग टाउनशिप के जियांगबियान गांव में भूकंप की वजह से बनी एक झील के कारण खतरे के दायरे में आए लोगों को बाहर निकाल रहे हैं। इस झील की वजह से 20 घर जलमग्न हो गए।

झील का जलस्तर एक मीटर प्रति घंटे की रफ्तार से बढ़ रहा है। लुडियान के लोंगक्वान गांव के डॉक्टरों ने शिन्हुआ से कहा कि उनके पास दवाओं की भारी कमी है और गंभीर रूप से घायल हुए लोगों के ऑपरेशन करने के लिए स्थानीय दशाएं बहुत खराब हैं। पहली बार भूकंप आने के बाद लगातार कई झटके आए।

युन्नान के अधिकारियों ने इसे भूकंप के लिहाज से संवदेनशील इस प्रांत में पिछले 100 सालों में आया सबसे शक्तिशाली भूकंप बताया है। चीनी भूकंप प्रशासन ने कहा कि भूकंप प्रभावित क्षेत्र में अब तक 411 झटके आए हैं जिनमें से कुछ की तीव्रता 4.0 से 4.9 मापी गयी।

स्थानीय भूकंप विशेषज्ञों ने रिक्टर स्केल पर 5 से 6 तीव्रता के झटके आने की चेतावनी दी है लेकिन भूकंप के केंद्र पर अधिक शक्तिशाली भूकंप के आने की आशंका से इनकार किया। इससे पहले आधिकारिक आंकड़ों से पता चला कि झाओतोंग में कम से कम 57,200 लोग बाहर निकाले जाने का इंतजार कर रहे हैं।