close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

क्रीमिया के नेता ने किया नियंत्रण का दावा, पुतिन से मांगी मदद

रूस और यूक्रेन के बीच गतिरोध आज उस वक्त गहरा गया जब मास्को समर्थक यूक्रेनी नेता ने क्रीमिया क्षेत्र में सेना एवं पुलिस पर नियंत्रण का दावा किया तथा रूसी राष्ट्रपति बलादिमीर पुतिन से शांति बरकरार रखने में मदद मांगी।

सेवास्तोपोल (यूक्रेन) : रूस और यूक्रेन के बीच गतिरोध आज उस वक्त गहरा गया जब मास्को समर्थक यूक्रेनी नेता ने क्रीमिया क्षेत्र में सेना एवं पुलिस पर नियंत्रण का दावा किया तथा रूसी राष्ट्रपति बलादिमीर पुतिन से शांति बरकरार रखने में मदद मांगी। पिछले सप्ताह रूस समर्थक यूक्रेनी राष्ट्रपति विक्टर यानुकोविच के सत्ता से बेदखल होने के बाद रूस और यूक्रेन के बीच गतिरोध की शुरूआत हुई थी। बीते शुक्रवार को हथियारबंद लोगों ने क्रीमिया में प्रमुख हवाई अड्डों और एक संचार केंद्र को कब्जे में ले लिया था। इन हथियार बंद लोगों को रूसी सैनिक बताया गया है।
यूक्रेन ने रूस पर ‘सैन्य हमले और कब्जे’ का आरोप लगाया है। इससे यहां के संकट में नया मोड़ आ सकता है। इस बात की भी आशंका बढ़ गई है कि मास्को क्रीमिया प्रायद्वीप की ओर से बढ़ रहा है। काला सागर में रूसी नौसेना का बेड़ा तैनात है। यूक्रेन की जनता दो हिस्सों में बंटी नजर आ रही है। देश का पश्चिमी हिस्सा यूरोपीय संघ के साथ नजदीकी रिश्ते की पैरवी कर रहा है तो पूर्वी और दक्षिणी हिस्सा सहयोग के लिए रूस की ओर देख रहा है। क्रीमिया में ज्यादातर लोग रूसी हैं।
यात्सेनयुक ने कहा, ‘‘हम रूस की सरकार और अधिकारियों का आह्वान करते हैं कि वे अपने सुरक्षा बलों को वापस बुलाएं तथा सुरक्षा बल अपने ठिकानों पर लौटे।’’ उधर, यूक्रेन में लगातार बिगड़ रहे हालात पर चर्चा के लिए संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने ‘अत्यावश्यक’ बैठक कर अशांत देश के सभी राजनीतिक पक्षों से अधिक से अधिक संयम बरतने और समग्र वार्ता के जरिए मामला सुलझाने को कहा।
फरवरी के लिए 15 सदस्यीय परिषद की अध्यक्षता कर रही लिथुआनिया की स्थायी प्रतिनिधि रेमोंडा मुरमोकैती ने कहा, ‘‘सुरक्षा परिषद ने यूक्रेन में हालिया घटनाक्रमों की समीक्षा की।’’ उन्होंने कहा कि बैठक में ‘‘यूक्रेन की एकता, क्षेत्रीय अखंडता और संप्रभुता के समर्थन का आह्वान किया गया। परिषद इससे सहमत हुयी कि यह जरूरी है कि यूक्रेन के सभी राजनीतिक पक्ष अत्यधिक संयम बरते और यूक्रेन के समाज की विविधता की पहचान के लिए समग्र वार्ता का आह्वान किया गया।’’ (एजेंसी)