close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

ओबामा को एंजेला मर्केल के फोन की जासूसी की जानकारी नहीं थी: अमेरिका

अमेरिका ने इन रिपोर्ट को खारिज कर दिया कि जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल के मोबाइल फोन के टैपिंग के बारे में अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा को सूचित किया गया था जबकि एक अमेरिकी दैनिक ने आज कहा कि ओबामा की जानकारी में लाए जाने के बाद जर्मन चांसलर समेत 35 विश्व नेताओं की जासूसी खत्म कर दी गई।

वाशिंगटन : अमेरिका ने इन रिपोर्ट को खारिज कर दिया कि जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल के मोबाइल फोन के टैपिंग के बारे में अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा को सूचित किया गया था जबकि एक अमेरिकी दैनिक ने आज कहा कि ओबामा की जानकारी में लाए जाने के बाद जर्मन चांसलर समेत 35 विश्व नेताओं की जासूसी खत्म कर दी गई। नेशनल सिक्यूरिटी एजेंसी (एनएसए) ने इन रिपोर्ट से इनकार किया है कि उसने कभी अमेरिकी राष्ट्रपति ओबामा से इस तरह के जासूसी कार्यक्रमों, खास कर मर्केल के संबंध में कोई चर्चा की है।
एनएसए प्रवक्ता वानी वाइनस ने एक बयान में कहा, (एनएसए निदेशक) जनरल कीथ अलेक्जैंडर ने 2010 में जर्मन चांसलर मर्केल से जुड़े कथित किसी विदेशी खुफियागीरी आपरेशन के बारे में कोई चर्चा नहीं की और ना ही उन्होंने चांसलर मर्केल से जुडे कथित ऑपरेशनों के बारे में कभी कोई चर्चा की। इस तरह के दावे करने वाली रिपोर्टें सही नहीं हैं। यह खंडन बिल्ड आम सोनताग अख्बार की रिपोर्ट के बाद आया जिसमें कहा गया है कि ओबामा को एनएसए के निदेशक ने 2010 में ही बता दिया था कि एनएसए मर्केल के मोबाइल फोन टैप कर रहा है।
अखबार ने एक उच्च पदस्थ एनएसए अधिकारी के हवाले से कहा कि राष्ट्रपति ने ना सिर्फ ऑपरेशन बंद नहीं करवाया, बल्कि उसने इसे जारी रखने का आदेश दिया। एक मीडिया रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि मर्केल की निगरानी संभवत: 2002 से शुरू हुई होगी।
इस बीच, वाल स्ट्रीट जर्नल ने आज बताया कि ओबामा को इसकी जानकारी नहीं थी कि उनके अपने एनएसए ने फ्रांस और जर्मनी समेत 35 विश्व नेताओं के सेल फोन संचार की निगरानी की थी। रिपोर्ट में बताया गया कि खुफियागिरी का कार्यक्रम इन गर्मियों में तब खत्म हो गया जब यह बात उनकी जानकारी में लाई गई।
पूर्व सीआईए ठेकेदार एडवर्ड स्नोडन से हासिल किए गए दस्तावेज से मिली इस तरह के खुफियागिरी कार्यक्रमों की रिपोर्ट से अनेक यूरोपियाई नेता, खास कर फ्रांसीसी और जर्मन नेता नाराज हुए हैं और उन देशों से अमेरिका के रिश्ते बहुत खराब हुए हैं।
अनाम अमेरिकी अधिकारियों के हवाले से रिपोर्ट में बताया गया है कि जानकारी मिलने के बाद व्हाइट हाउस ने कुछ निगरानी कार्यक्रम, खास कर मर्केल और कुछ अन्य विश्व नेताओं के निगरानी कार्यक्रम खत्म कर दिए। अधिकारियों ने बताया कि अन्य कार्यक्रमों को भी खत्म किया जाएगा। (एजेंसी)