एशिया प्रशांत में अमेरिका को चाहिए नए साझेदार और संबंध: चक हेगल

अपनी पहली भारत यात्रा से पहले अमेरिकी रक्षामंत्री चक हेगल ने कहा है कि अमेरिका एशिया-प्रशांत क्षेत्र में नए साझेदारों और संबंधों की तलाश कर रहा है, जिसमें अवसर और चुनौतियां दोनों ही मौजूद हैं। अपनी पहली तीन दिवसीय भारत यात्रा की पूर्व संध्या पर हेगल ने जर्मनी में आयोजित एक बैठक में कहा कि वह न सिर्फ सैन्य संबंधों के लिए, बल्कि दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र के साथ वृहतर संबंध स्थापित करने के लिए वहां की यात्रा पर जा रहे हैं।

एशिया प्रशांत में अमेरिका को चाहिए नए साझेदार और संबंध: चक हेगल

वाशिंगटन : अपनी पहली भारत यात्रा से पहले अमेरिकी रक्षामंत्री चक हेगल ने कहा है कि अमेरिका एशिया-प्रशांत क्षेत्र में नए साझेदारों और संबंधों की तलाश कर रहा है, जिसमें अवसर और चुनौतियां दोनों ही मौजूद हैं। अपनी पहली तीन दिवसीय भारत यात्रा की पूर्व संध्या पर हेगल ने जर्मनी में आयोजित एक बैठक में कहा कि वह न सिर्फ सैन्य संबंधों के लिए, बल्कि दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र के साथ वृहतर संबंध स्थापित करने के लिए वहां की यात्रा पर जा रहे हैं।

हेगल ने कहा कि वह जॉन केरी और वाणिज्य मंत्री पेनी प्रित्ज्कर की यात्रा के बाद भारत जा रहे हैं। ये दोनों लगभग एक सप्ताह पहले वहां गए थे और उन्होंने न सिर्फ सेना से सेना के बीच, बल्कि भारतीयों के साथ वृहतर संबंध बनाने की कोशिश जारी रखी। उन्होंने कहा कि दोनों ही देशों के विविध और साझा हित हैं, जिनमें स्थिरता, सुरक्षा, आर्थिकी, संभावनाएं और स्वतंत्रता भी शामिल है।

हेगल ने कहा कि भारत दुनिया में सबसे बड़े लोकतंत्र का प्रतिनिधित्व करता है। वहां अभी-अभी चुनाव हुए हैं। उनके यहां नई सरकार बनी है। नए प्रधानमंत्री अगले माह राष्ट्रपति ओबामा से मिलने वाशिंगटन आ रहे हैं। इसलिए मैं वहां जाउंगा और हमारे महत्वपूर्ण मुद्दों पर काम करूंगा लेकिन यह (यात्रा) इससे कहीं ज्यादा है। उन्होंने कहा कि जब हम एशिया-प्रशांत की ओर देखते हैं तो यह क्षेत्र नए अवसर तो दिखाता ही है, साथ ही नई चुनौतियां भी पेश करता है। हमें साझेदारों की जरूरत है। हमें संबंध चाहिए। जिस दुनिया में हम रह रहे हैं, वह ऐसा ही है। ऐसी ही दुनिया में हम रहने वाले हैं। यात्रा के दौरान, 20 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा के रक्षा समझौतों, आतंकवाद रोधी गतिविधियों में खुफिया जानकारी के आदान प्रदान और सैन्य संबंधों को मजबूत करने के कदमों के बारे में चर्चा किए जाने की संभावना है।

रक्षा मंत्रालय के अधिकारियों ने कहा कि अपनी यात्रा के दौरान हेगल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, रक्षामंत्री अरूण जेटली, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहाकार अजीत डोभाल के साथ बैठकें करेंगे।