close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

मंडेला की श्रद्धांजलि सभा में जुटे दिग्गज नेता

दक्षिण अफ्रीका के दिवंगत पूर्व राष्ट्रपति नेल्सन मंडेला को श्रद्धांजलि देने के लिए आयोजित समारोह में मंगलवार को भारी बारिश के बावजूद सोवेटो के एफएनबी स्टेडियम में हजारों की संख्या में दक्षिण अफ्रीकी जनता उमड़ पड़ी। अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने अपने भाषण में मंडेला को इतिहास का दिग्गज व्यक्तित्व बताया।

जोहानिसबर्ग : दक्षिण अफ्रीका के दिवंगत पूर्व राष्ट्रपति नेल्सन मंडेला को श्रद्धांजलि देने के लिए आयोजित समारोह में मंगलवार को भारी बारिश के बावजूद सोवेटो के एफएनबी स्टेडियम में हजारों की संख्या में दक्षिण अफ्रीकी जनता उमड़ पड़ी। अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने अपने भाषण में मंडेला को इतिहास का दिग्गज व्यक्तित्व बताया।
समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, स्टेडियम का मुख्य द्वार खुलने से पहले ही विश्व के सबसे चहेते राजनेताओं में से एक अपने पूर्व राष्ट्रपति मंडेला को श्रद्धासुमन अर्पित करने के लिए शोक संतप्त लोगों की लंबी-लंबी कतारें लग गई थीं।
80 किलोमीटर दूर थेंबिया से श्रद्धासुमन अर्पित करने आए एमुकेलानी माजिबुको ने कहा, "मैं यहां तड़के 2.0 बजे से पहले ही आ गया। मैं इस दिन को गंवाना नहीं चाहता था। मैं यहां `मदीबा` को धन्यवाद कहने और उनकी आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना करने आया हूं।"
दक्षिण अफ्रीका के पहले अश्वेत राष्ट्रपति मंडेला का जोहांसबर्ग स्थित अपने निवास पर पांच दिसंबर को 95 वर्ष की आयु में निधन हो गया था।
सोवेतो के मबूइसेलो न्यांडा ने कहा, "यह दिन इतिहास में दर्ज होगा।" इस श्रद्धांजलि सभा में वर्तमान एवं पूर्व राष्ट्रपतियों सहित 100 से भी अधिक राजकीय प्रतिनिधि हिस्सा ले रहे हैं। राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय संगठनों के प्रतिनिधि भी इस अवसर पर मंडेला को श्रद्धांजलि देने यहां पहुंचे हैं।
संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की-मून और अफ्रीकी संघ आयोग की अध्यक्ष कोसाजाना डलामिनी जुमा सहित अंतर्राष्ट्रीय स्तर की मुख्य हस्तियां भी इस अवसर पर उपस्थित हैं।
दक्षिण अफ्रीकी सरकार ने कहा है कि देश के विभिन्न हिस्सों में ऐसे लोगों के लिए जो समारोह स्थल नहीं पहुंच सकते, 150 सार्वजनिक स्थलों पर समारोह का सीधा प्रसारण करने की व्यवस्था की गई है।
स्टेडियम के बाहर शोकाकुल लोगों ने मंडेला की याद में गीत गाए और उनमें से कुछ रो पड़े। वे गा रहे थे, "नेल्सन मंडेला, नेल्सन मंडेला आप जैसा कोई नहीं..।"
रंगभेद नीति का विरोध करने के दौरान मंडेला द्वारा अपनाए गए विरोध के तरीके का अनुकरण करते हुए युवाओं का एक समूह गीली जमीन पर लेट गया। उनमें से एक युवक नकामिसिले खुमोयामे ने कहा, "वह सच्चे क्रांतिकारी थे।"
श्रद्धांजलि सभा संपन्न होने के बाद मंडेला का पार्थिव शरीर वापस प्रीटोरिया के यूनियन बिल्डिंग्स ले जाया जाएगा, जहां वह पिछले तीन दिनों से रखे गए थे। वहां से फिर मंडेला का शव उनके जन्मस्थान ईस्टर्न केप प्रांत के कुनू ले जाया जाएगा, जहां 15 दिसंबर को उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा।
भारत से राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी और वरिष्ठ नेताओं का एक शिष्टमंडल समारोह में शामिल होने यहां पहुंचा है। (एजेंसी)