close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बरेली: मृत नवजात बेटी को दफाना रहा था पिता, गड्ढा खोदते ही मटके में मिली 'सीता'

सीबीगंज के रहने वाले हितेश कुमार की पत्नी वैशाली, महिला दरोगा हैं. गर्भावस्था के दौरान उन्होंने प्रीमेच्योर बच्ची को जन्म दिया था, जिसकी कुछ देर बाद मौत हो गई. परिजन मृत बच्ची को दफनाने के लिए श्मशान में खुदाई कर रहे थे. इसी दौरान तीन फुट गहरे गड्ढे में एक घड़े से जिंदा मासूम मिली. 

बरेली: मृत नवजात बेटी को दफाना रहा था पिता, गड्ढा खोदते ही मटके में मिली 'सीता'
बच्ची को किसने ऐसे गड्ढे में दफनाया ये अभी तक पता नहीं चला है.

बरेली: कहते हैं जाको राखे साइयां मार सके ना कोई. ये कहावत एक बार फिर सही साबित होती दिखाई दे रही है. मामला बरेली (Bareilly) का है, जहां की एक घटना ने लोगों को चौका दिया है. बरेली में श्मशान घाट (Graveyard) में खुदाई के दौरान जमीन के अंदर मटके से एक जिंदा मासूम मिली, जिसने सबको हैरत में डाल दिया.

दरअसल, सीबीगंज के रहने वाले हितेश कुमार की पत्नी वैशाली, महिला दरोगा हैं. गर्भावस्था के दौरान उन्होंने प्रीमेच्योर बच्ची को जन्म दिया था, जिसकी कुछ देर बाद मौत हो गई. परिजन मृत बच्ची को दफनाने के लिए श्मशान में खुदाई कर रहे थे. इसी दौरान तीन फुट गहरे गड्ढे में एक घड़े से जिंदा मासूम मिली. 

बच्ची को रोता देख लोगों ने पुलिस को सूचित किया, जिसके बाद फौरन बच्ची को अस्पताल में भर्ती करवाया गया. अस्पताल के स्टाफ ने बच्ची का नाम सीता रखा है. दरअसल, रामायण के अनुसार, मिथिला के राजा जनक को खेत में हल जोतते समय एक मटके से सीता माता की प्राप्ति हुई थी.

लाइव टीवी देखें

पुलिस अधिकारियों का कहना है कि बच्ची को किसने ऐसे गड्ढे में दफनाया ये अभी तक पता नहीं चला है. पुलिस की टीमें उस परिवार की तलाश में जुट गई हैं, जिसने ये अमानवीय कृत्य किया है.