close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

श्मशान में मनाया गया बच्चे का जन्मदिन, परोसा गया मांस

अंधविश्वास विरोधी आंदोलन के कार्यकर्ताओं ने श्मशान में एक बच्चे का जन्मदिन मनाया है. 

श्मशान में मनाया गया बच्चे का जन्मदिन, परोसा गया मांस
प्रतीकात्मक तस्वीर

मुंबई: दुनिया के लगभग हर समाज में अंधविश्वास है. महाराष्ट्र में कुछ लोगों ने अंधविश्वास के खिलाफ आवाज बुलंद की है. हालांकि उन्होंने अंधविश्वास दूर करने के लिए कुछ ऐसा काम कर बैठे हैं, जिसके चलते उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है. अंधविश्वास विरोधी आंदोलन के कार्यकर्ताओं ने श्मशान में एक बच्चे का जन्मदिन मनाया है. इस अजीबो-गरीब बर्थडे पार्टी में आए मेहमानों को मांस परोसा गया. बर्थडे पार्टी की तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद इस संगठन के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है. यह मुकदमा हिंदू संगठनों की शिकायत पर दर्ज किया गया है.

पुलिस ने बताया कि मंगलवार को परभनी जिले के अंधश्रद्धा निर्मूलन समिति (एमएएनएस) के सदस्यों ने श्मशान में बच्चे का जन्मदिन मनाया था. इस मामले में मुकदमा दर्ज किया गया है. मुकदमा के मुताबिक एमएएमएस के सदस्य पंढरीनाथ शिंदे ने 19 सितंबर को अपने बेटे का जन्मदिन श्मशान में मनाया था. इस बर्थडे पार्टी में शिंदे के परिजन और दोस्तों ने भी हिस्सा लिया था. 

ये भी पढ़ें: VIDEO : जब अचानक हवा में उड़कर 'सांप' लोगों के ऊपर गिरने लगा, 3 दिन में देख चुके करोड़ों लोग

बेटे की इस बर्थडे पार्टी में पंढरीनाथ शिंदे ने मेहमानों को मांस परोसा था. इस अजीबो-गरीब बर्थडे पार्टी की तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं. इसके बाद हिंदू संगठनों ने इसपर आपत्ति जताई है. हिंदू संगठन के कुछ सदस्यों ने इसकी शिकायत थाने में कर दी. हिंदू संगठनों के लोगों ने धार्मिक भावना आहत करने का आरोप लगाते हुए शिंदे के खिलाफ पुलिस से शिकायत की थी. 

ये भी पढ़ें: VIDEO : ये लड़की जीभ से रोक देती है फुल स्पीड में चलता पंखा

जिंतूर पुलिस की निरीक्षक सोनाजी अमले ने बताया कि जिंतूर बीजेपी के अध्यक्ष वट्टमवार ने भी इस घटना की शिकायत दर्ज की थी. इस शिकायत पर आईपीसी की धारा 295 के तहत मामला दर्ज किया गया है. मुकदमा में पंढरीनाथ शिंदे को मुख्य आरोपी बनाया गया है. हालांकि इस मामले में अभी तक कोई गिरफ्तारी नहीं हुई है. हिंदू संगठनों का कहना है कि श्मशान घाट में मांस परोसे जाने के बाद यह जगह अपवित्र हो गया है. शुद्धिकरण के लिए यहां गोमूत्र छिड़का गया है.