जानें इस वायरल खबर की सच्चाई: दोस्त से पत्नी 'उधार' ली; चुनाव जीतने पर किया निकाह

जब हमने इस खबर की सच्चाई जानने की कोशिश की तो पता चला कि ये मामला दो साल पुराना है. लेकिन इसे आज सोशल मीडिया पर वायरल किया जा रहा है.

जानें इस वायरल खबर की सच्चाई: दोस्त से पत्नी 'उधार' ली; चुनाव जीतने पर किया निकाह
प्रतीकात्मक फोटो

मुरादाबाद: सोशल मीडिया पर एक खबर तेजी से वायरल हो रही है कि उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में मुरादाबाद के कुंडा क्षेत्र में एक शख्स को नेता बनने की इतनी धुन सवार हुई कि वो इसके लिए कुछ भी करने को तैयार हो गया. उसने अपने दोस्त से उसकी पत्नी को 'उधार' लिया और चुनाव जीतने के बाद उसी से निकाह कर लिया. जब हमने इस खबर की सच्चाई जानने की कोशिश की तो पता चला कि ये मामला दो साल पुराना है. लेकिन इसे आज सोशल मीडिया पर वायरल किया जा रहा है.

ये है पूरा मामला
दरसअल, जिस नगर पंचायत सीट से शख्स अपनी पत्नी को चुनाव लड़वाने के ख्वाब देख रहा था वो पिछड़े वर्ग के लिए रिजर्व हो गई तो उसे अपने सपनों पर पानी फिरता दिखने लगा. फिर उस आदमी ने इसकी काट निकालने के लिए अपने दोस्त से उसकी पत्नी को चुनाव लड़वाने के लिए ‘उधार’ मांग लिया. 

संयोग से वो महिला नगर पंचायत चुनाव जीत कर चेयरमैन बन गई. इसके बाद सियासत हासिल करने के दीवाने इस शख्स ने अपने दोस्त की पत्नी को लौटाने की बजाय उससे निकाह कर लिया. इसके बाद महिला के परेशान पति ने अपनी पत्नी वापस पाने के लिए कोर्ट का दरवाजा खटखटाया. फिर कोर्ट ने कुंडा थाना पुलिस से रिपोर्ट तलब की.

ये भी पढ़े- लोकल ट्रेन में गायब हुआ बटुआ, पुलिस को 14 साल बाद मिला

महिला के पति ने कोर्ट को बताया कि वो अपने दोस्त के साथ पार्टनरशिप में ठेकेदारी का काम करता था. उन दोनों के बीच बहुत गहरी दोस्ती थी. उसने कहा कि हम एक-दूसरे के घर भी आते-जाते थे. साल 2018 में हुए निकाय चुनाव में उसका दोस्त अपनी पत्नी को नगर पंचायत के चैयरमैन पद के लिए चुनाव लड़वाना चाहता था लेकिन सीट पिछड़े वर्ग के लिए आरक्षित हो गई. अब सामान्य जाति का होने के कारण वो अपनी पत्नी को चुनाव नहीं लड़वा सकता था. फिर उसने दोस्ती का वास्ता देकर मेरी पत्नी को चुनाव लड़वाने की बात रखी तो मैं मना नहीं कर पाया.

पीड़ित पति ने आगे बताया कि इसके साथ ये बात तय हुई कि चुनाव होने तक मैं अपनी पत्नी की दोस्त से कोर्ट मैरिज करवा दूं और बाद में मेरी पत्नी वापस आकर पहले की तरह मेरे और बच्चों के साथ रहेगी.

उसने आगे कहा कि मैंने दोस्त की बात पर विश्वास करके अपनी पत्नी की कोर्ट मैरिज उससे करवा दी और फिर मेरी पत्नी चुनाव भी जीत गई. लेकिन चैयरमैन बनने के बाद मैंने कई बार अपने दोस्त से कहा कि अब मेरी पत्नी को वापस भेज दो लेकिन वो चैयरमैन पद की व्यस्तता की बात कह कर टालता रहा.

फिर बाद में मालूम हुआ कि मेरे दोस्त ने मेरी पत्नी के साथ निकाह कर लिया जबकि पहले से वो शादीशुदा था और उसके बच्चे भी थे. पीड़ित पति का कहना था कि उसने अभी अपनी पत्नी को तलाक नहीं दिया, फिर भी वो मेरी पत्नी को वापस करने से मना कैसे कर सकता है. शरीयत के मुताबिक भी शौहर के मौजूद होते हुए किसी और मर्द के साथ उसकी पत्नी का निकाह जायज नहीं है.

VIDEO

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.