उबाऊ वर्चुअल बैठकों को कुछ इस तरह रोमांचक बना रहा है यह गधा

कोरोना (Corona Virus) महामारी ने वर्चुअल बैठकों को बढ़ावा दिया है. लोग ज़ूम जैसे  प्लेटफॉर्म पर अहम् बैठकों को अंजाम दे रहे हैं.

उबाऊ वर्चुअल बैठकों को कुछ इस तरह रोमांचक बना रहा है यह गधा
बकवीट (Buckwheat). फोटो:AFP

टोरंटो: कोरोना (Corona Virus) महामारी ने वर्चुअल बैठकों को बढ़ावा दिया है. लोग ज़ूम जैसे प्लेटफॉर्म पर अहम् बैठकों को अंजाम दे रहे हैं. हालांकि, यह ऑनलाइन तरीका व्यक्तिगत रूप से होने वाले बैठकों की तुलना में कभी-कभी उबाऊ हो जाता है, और इसी बोरियत को दूर करने के लिए कनाडा (Canada) की एक सेंचुरी ने अनोखा तरीका खोज निकाला है. 

फार्महाउस गार्डन एनिमल होम (Farmhouse Garden Animal Home) सेंचुरी अपने बकवीट (Buckwheat) नामक गधे को ज़ूम मीटिंग के लिए किराये पर देती है. सुनने को भले ही आपको कुछ अजीब लग रहा हो, लेकिन सेंचुरी का यह आइडिया जबरदस्त हिट हो गया है और लोग बाकायदा वर्चुअल मीटिंग क्रैश करने और कुछ देर के लिए सबकुछ भूलकर गुदगुदाने के लिए बकवीट को किराये पर ले रहे हैं. ज़ूम कॉल (Zoom call ) पर ग्रे और सफेद रंग के बकवीट का परिचय कराते हुए सेंचुरी के वॉलेटियर टिम फोर्स (Tim Fors) कहते हैं, ‘हैलो, मिलिए बकवीट से, यह आपकी वर्चुअल बैठक को क्रैश कराने के लिए उपस्थित है’.

स्क्रीन पर गधे को देखकर चौंक जाते हैं लोग
वीडियो एप्लिकेशन के सिग्नेचर विंडो पैन में, कॉल अटेंड करने वाले उस वक्त कुछ देर के लिए सोच में पड़ जाते हैं, जब अचानक स्क्रीन पर एक गधे की तस्वीर नजर आने लगती है. फिर जब उन्हें असलियत का पता चलता है तो उबाऊ बैठक ठहाकों से गूंज उठती है. फोर्स ने न्यूज़ एजेंसी AFP से कहा कि बकवीट कुछ पैसे कमाने के लिए लोगों की वर्चुअल मीटिंग को क्रैश कर रहा है. जब लोगों को उबाऊ बैठक से छुटकारा चाहिए होता है, तो वह बकवीट की सेवा लेते हैं और उसके ऐवज में सेंचुरी को डोनेशन देते हैं. जिससे गाय आदि जानवरों को खिलाने के लिए चारे का इंतजाम किया जाता है. कोरोना महामारी के चलते सेंचुरी की आमदनी लगभग बंद हो गई है, ऐसे में बकवीट उसके लिए वरदान की तरह साबित हो रहा है.

फार्म हाउस गार्डन होम टोरंटो के उत्तर-पूर्व में लगभग एक घंटे की दूरी पर Uxbridge में स्थित है. सेंचुरी का खर्चा मुख्य तौर पर यहां आने वाले सैलानियों से चलता था, लेकिन कोरोना के चलते मार्च के मध्य से सबकुछ ठप है. 

ऐसे आया आइडिया
फोर्स के मुताबिक, लगभग चार साल पहले यहां के किसान माइक लैनिगन (Mike Lanigan) ने अपनी गायों को स्लॉटर हाउस नहीं भेजने का फैसला लिया और इस तरह से सेंचुरी अस्तित्व में आई. अब यहां लगभग 20 गाय, मुर्गियां, बत्तख, घोड़े और बकवीट नामक मादा गधा है, जिसका जन्म 12 साल पहले हुआ था. कोरोना महामारी के चलते जब सेंचुरी की आय बंद हो गई तो इसके मालिक ने सोचा कि खर्चा चलाने के लिए कुछ अलग करना होगा. चूंकि वह खुद भी ज़ूम पर हैं, इसलिए उनके दिमाग में ज़ूम की उबाऊ बैठकों को रोमांचक बनाने के लिए बकवीट को किराए पर देने का आइडिया आया.

100 बैठकों में हो चुका है शामिल
सेंचुरी की वेबसाइट के मुताबिक, बकवीट की सेवा लेने के लिए एक फॉर्म भरना होता है. सेंचुरी के सह-संस्थापक एडिथ बरबाश (Edith Barabash) ने टोरंटो लाइफ मैगजीन को बताया कि बकवीट को 10 मिनट के लिए ज़ूम मीटिंग का हिस्सा बनवाने के लिए CAN $75 (US $55) देने होते हैं. यदि 30 मिनट तक उसकी सेवा चाहिए तो किराया बढ़कर CAN $125 हो जाता है. फोर्स के मुताबिक, अप्रैल के अंत में शुरू की गई इस सेवा को जबरदस्त रिस्पॉन्स मिल रहा है. बकवीट अब तक 100 से ज्यादा बैठकों का हिस्सा बन चुका है और कभी-कभी वह एक दिन में तीन से चार मीटिंग को क्रैश कर रहा है.